न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एनआरसी जारी होने के बाद कोई भी व्यक्ति राष्ट्रविहीन न हो : यूएन शरणार्थी प्रमुख  

शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र के उच्चायुक्त फिलिपो ग्रैंडी ने जिनेवा में रविवार को बयान जारी कर अपनी चिंता जाहिर की.

113

Berlin :   संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के शीर्ष शरणार्थी अधिकारी ने भारत से यह सुनिश्चित करने का अनुरोध किया है कि असम राज्य में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) से लगभग 20 लाख लोगों को बाहर किये जाने के बाद कोई भी व्यक्ति राष्ट्र विहीन न हो. शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र के उच्चायुक्त फिलिपो ग्रैंडी ने जिनेवा में रविवार को बयान जारी कर अपनी चिंता जाहिर की.

उन्होंने कहा कि कोई भी प्रक्रिया जिसमें बड़ी संख्या में लोग बिना किसी राष्ट्र की नागरिकता के छूट जाते हैं तो वह देशविहीनता को समाप्त करने के वैश्विक प्रयासों के लिए एक बहुत बड़ा झटका होगा.

इसे भी पढ़ें- मोदी पर मनमोहन का वार, कहा- राजनीति छोड़ अर्थव्यवस्था को गंभीर सुस्ती से उबारने का करें प्रयास

एनआरसी से 19,06,657 लोगों को बाहर कर दिया गया है

Trade Friends

जान लें कि असम में बहुप्रतीक्षित एनआरसी की अंतिम सूची शनिवार को ऑनलाइन जारी कर दी गयी. खबरों के अनुसार एनआरसी में शामिल होने के लिए 3,30,27,661 लोगों ने आवेदन दिया था. इनमें से 3,11,21,004 लोगों को शामिल किया गया है और 19,06,657 लोगों को बाहर कर दिया गया है.

एनआरसी की अंतिम सूची में जगह नहीं पाने वालों में करगिल युद्ध में भाग लेने वाले के एक पूर्व सैन्यकर्मी मोहम्मद सनाउल्लाह, एआईयूडीएफ के एक वर्तमान विधायक अनंत कुमार मालो और पूर्व विधायक अताउर रहमान मजरभुइयां  भी शामिल हैं.

एनआरसी में बड़ी संख्या में लोगों के नाम शामिल नहीं कि. जाने की वजह से विपक्ष इस समय भाजपा पर हमलावर है. असम सरकार ने शनिवार को दावा किया था कि कई वास्तविक भारतीय एनआरसी की अंतिम सूची से छूट गये  हैं लेकिन उन्हें घबराने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि उनके पास विदेशी न्यायाधिकरण (एफटी) में अपील करने का विकल्प उपलब्ध है.

इसे भी पढ़ें- कश्मीरी पत्रकार गौहर गिलानी को दिल्ली हवाईअड्डे पर रोका गया, जर्मनी जाने वाले  थे  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like