न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : क्लिनिक से हाथी दांत के साथ दो लाख नगद बरामद, जांच जारी

हाथी दांत के अलावा क्लिनिक से दो लाख 2500 रूपये भी बरामद किया गया है. जिसका कोई हिसाब नहीं मिल पाया है.

202

Palamu : पलामू टाइगर रिजर्व में वन विभाग की एसआईटी टीम को बड़ी सफलता हाथ लगी है. गुरूवार को छापेमारी के दौरान गारू मुख्य बाजार में स्थित एक ग्रामीण डॉक्टर के क्लिनिक से जंगली हाथी का एक दांत बरामद किया गया. हालांकि छापामारी के दौरान डॉक्टर वहां से भाग निकला. हाथी दांत के अलावा क्लिनिक से दो लाख 2500 रूपये भी बरामद किया गया है. जिसका कोई हिसाब नहीं मिल पाया है.

16 जनवरी को हुई थी हाथी की हत्या

बीते 16 जनवरी को पलामू टाइगर रिजर्व अंतर्गत छिपादोहर वन क्षेत्र के छिपादोहर-हेहेगड़ा रेलवे रेल लाइन के पास जावा नदी पुल के निकट जंगली हाथी का शव बरामद किया गया था. शिकारियों ने गोली मारकर हाथी की हत्या की थी और दांत काट कर ले गए थे. हाथी के शव मिलने के बाद वन विभाग की एसआईटी लगातार कार्रवाई कर रही थी.

Trade Friends

गुप्त सूचना पर हुई कार्रवाई 

इसी दौरान बुधवार की रात आठ बजे डीएफओ (साउथ) मुकेश कुमार को गुप्त सूचना मिली कि गारू बाजार में स्थित डॉक्टर बिरेंद्र सिंह के क्लिनिक में जंगली जानवरों के अवशेष रखे गए हैं. बाद में एसीएफ (साउथ) एम. कुमार, एसीएफ (नोर्थ) एसपी खेस, छिपादोहर ईस्ट के रेंजर अशोक कुमार, वेस्ट के उमाशंकर सिंह के अलावा बेतला, गारू, छिपादोहर के फॉरेस्ट गार्ड ने गारू पुलिस के साथ छापामारी की.

किराये पर चल रहा था क्लिनिक

इस बारे में डीएफओ ने बताया कि संतोष बैठा के मकान में किराये पर संचालित बिरेंद्र सिंह की क्लीनिक से हाथी का एक डेढ़ किलो का दांत (करीब 40-42 सेंटीमीटर लंबा) बरामद किया गया. इसके अलावा दो लाख 2500 रूपये भी क्लीनिक से मिले. साथ ही उन्होंने बताया कि विरेन्द्र सिंह झोलाछाप डाक्टर हैं. उसके खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. उसकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी भी तेज की गयी है और गिरफ्तारी के बाद ही हाथी की हत्या मामले में कोई खुलासा हो सकता है. उन्होंने कहा कि बरामद दांत की जांच करायी जा रही है. जांच के बाद ही स्पष्ट हो पायेगा कि यह दांत पिछले दिनों मिले हाथी के थे, या फिर किसी अन्य हाथी के हैं. डॉक्टर छिपादोहर थाना क्षेत्र के अनारीखड़ गांव का रहने वाला है.

दांत बेचने की चल रही थी तैयारी

सूत्रों के अनुसार हाथी के दांत के बेचने की तैयारी चल रही थी. दांत खरीदने के लिए बाहर से लोग आने वाले थे. लेकिन उससे पहले ही वन विभाग की छापामारी हो जाने से सारा खेल बिगड़ गया.

इसे भी पढ़ें – CM के प्रधान सचिव सुनील बर्णवाल, खनन सचिव अबू बकर सिद्दिकी ने कोर्ट में नहीं रखी अपनी ही बनायी…

इसे भी पढ़ें – बंधु को मिली बेल, वकील ने कहा- कोर्ट ने बंधु को बताया ईमानदार नेता

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like