न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गुजर गये छह महीने, दो आइएएस और चार आइएफएस को केंद्र में नहीं मिली जगह

राज्य सरकार ने हामी भर तो दी, लेकिन केंद्र में अब तक नहीं हो पाये एडजस्ट, वेकेंसी ही नहीं

1,356

Ranchi:  झारखंड कैडर के दो आइएएस और चार आइएफएस को केंद्र में क्रीम पोस्ट नहीं मिल पा रहा है. जबकि राज्य सरकार इन अफसरों के केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर जाने की हामी लगभग छह महीने पहले ही भर दी थी.

सूत्रों के अनुसार केंद्र के क्रीम विभागों में वेंकेंसी नहीं है. इस कारण झारखंड कैडर के अफसर वेट एंड वॉच की स्थिति में हैं. दूसरी वजह यह है कि केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से वापस अपने कैडर में योगदान देने के बाद कम के कम दो साल का टेन्योर पूरा करना होता है.

इसके बाद ही केंद्रीय प्रतिनियुक्ति में जाने का रास्ता साफ होगा. यह कूलिंग ऑफ के तहत होता है.

इसे भी पढ़ेंः उज्ज्वला योजना का हाल : बिहार, एमपी, यूपी और राजस्थान में 85 फीसदी लाभार्थी आज भी चूल्हे पर पकाते हैं खाना

Trade Friends

इंदु शेखर चतुर्वेदी और रहाटे को सितंबर में मिली थी अनुमति

अपर मुख्य सचिव रैंक के अफसर इंदु शेखर चतुर्वेदी और प्रधान सचिव रैंक के अफसर सुधीर गंगाधर रहाटे को राज्य सरकार ने सितंबर 2018 में ही केंद्रीय प्रतिनियुक्ति में जाने की अनुमति दे दी थी.

छह महीने से अधिक समय बीत जाने के बाद भी केंद्र में जगह नहीं मिल पायी है. सूत्रों के अनुसार अपर मुख्य सचिव इंदु शेखर चतुर्वेदी केंद्र में जल्द ही एडजस्ट हो जायेंगे.

वजह यह है कि वे सीएस रैंक के अफसर होने के साथ 1987 बैच के आइएएस हैं. वहीं रहाटे काफी जूनियर हैं. केंद्र में भी सीनियरिटी को ध्यान में रखा जाता है.

इसे भी पढ़ेंः SC का फैसला, हर विधानसभा क्षेत्र में एक नहीं, पांच EVM- VVPAT का औचक मिलान होगा

झारखंड में इंदु शेखर को नहीं मिला कोई महत्वूर्ण विभाग

अपर मुख्य सचिव रैंक के अफसर इंदु शेखर चतुर्वेदी को झारखंड में कोई महत्वपूर्ण विभाग नहीं मिला. फिलहाल वे मेंबर बोर्ड ऑफ रेवेन्यू के साथ वन एवं पर्यावरण विभाग के अतिरिक्त प्रभार में है.

जबकि इंटरनेशनल मॉनिटिरिंग फंड में वित्तीय सलाहकार के साथ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के सचिव भी रह चुके हैं. जबकि झारखंड में उन्हें मुख्य सचिव बनाने पर भी चर्चा नहीं की गयी. इंदु शेखर चतुर्वेदी 31-10-2022 को रिटायर होंगे.

वहीं इंदु शेखर चतुर्वेदी से जूनियर अफसरों को क्रीम विभाग की जिम्मेवारी सौंपी गयी. फिलहाल राजीव गौबा, अमित खरे, राजीव कुमार, एनएन सिन्हा, अलका तिवारी, निधि खरे, एमएस भाटिया और एसएस मीणा केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैं.

चार आइएफएस को भी केंद्र में अब तक नहीं मिली जगह

राज्य सरकार ने भारतीय वन सेवा के चार अफसरों को भी केंद्रीय प्रतिनियुक्ति में जाने की अनुमति दे चुकी है. लेकिन इन अफसरों को भी केंद्र में जगह नहीं मिल पा रही है.

SGJ Jewellers

काफी जद्दोजहद के बाद आइएफएस अफसरों को केंद्रीय प्रतिनियुक्ति में जाने की अनुमति मिली. इसके लिए झारखंड के आइएफएस एसोसिएशन ने राष्ट्रपति से भी गुहार लगायी थी. कहा था कि झारखंड में सर्विस कंडिशन काफी खराब है.

अफसरों को केंद्रीय प्रतिनियुक्ति में जाने से रोका जा रहा है. केंद्रीय प्रतिनियुक्ति के 17 पद हैं, जिसमें पांच अफसर ही तैनात हैं. फिलहाल राज्य सरकार अपर प्रधान मुख्य संरक्षक रैंक के तीन अफसर एमपी सिंह, आशीष रावत और संजय श्रीवास्तव व सीसीएफ रैंक के अफसर वाजपेयी को केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर जाने की अनुमति दे चुकी है.

kanak_mandir

इसे भी पढ़ेंः शराब दुकान खुलने से ग्रमीणों में आक्रोश, बच्चे भी विरोध में उतरे सड़क पर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like