न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जिस विधानसभा भवन का उद्घाटन 12 सितंबर को करेंगे #PM Modi, 4 सितंबर को मिला उसका Environment Clearance, लेना था निर्माण शुरू करने से पहले

2,691

Ranchi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 12 सितंबर को रांची में बने भव्य विधानसभा भवन का उद्घाटन करेंगे. लेकिन गौर करनेवाली बात है कि जिस भवन का उद्घाटन पीएम मोदी करनेवाले हैं, उस भवन को Environment Clearance उद्घाटन के महज आठ दिन पहले मिला. यानी 4 सितंबर 2019 को विधानसभा भवन को Environment Clearance मिला. जबकि EIA (Environmental Impact Assesment) 2006 के नोटिफिकेशन के मुताबिक ऐसा कोई भी भवन जिसका परिसर 20,000 Sq. M. में फैला हुआ है. उसके लिए State Level Environment Impact Assessment Authority (SEIAA) से Environment Clearance लेना अनिवार्य है. नोटिफिकेशन में इस बात का साफ उल्लेख है कि परिसर क्षेत्र की गणना सभी फ्लोर के क्षेत्रफल के हिसाब से होगी. न कि सिर्फ ग्राउंड फ्लोर के हिसाब से. जबकि झारखंड विधानसभा करीब 1.6 लाख Sq. m.  में 366.57 करोड़ रुपये की लागत से बन कर तैयार हुआ है. बिल्डिंग बनने से पहले ही भवन के लिए Environment Clearance लेना अनिवार्य था. जो उद्घाटन के महज आठ दिन पहले लिया गया.

इसे भी पढ़ें – #Economic_Recession: अब माइनिंग सेक्टर पर मंडरा रहा खतरा, जा सकती है 2,60000 लोगों की नौकरी

जानें कब-कब क्या हुआ

विधानसभा भवन का निर्माण कार्य 25 जनवरी 2016 को शुरू हो गया. कानूनन Environment Clearance इस तिथि से पहले ले लेना चाहिए था. लेकिन ऐसा नहीं हुआ. Environment Clearance के लिए भवन निर्माण विभाग ने 11 सितंबर 2017 को Ministry of Environment, Forest and Climate Change (MoEF, CC) में आवेदन दिया. लेकिन MoEF, CC ने आवेदन को कारिज करते हुए इसे रद्द की केटेगरी में डाल दिया. 2018 में मद्रास हाइकोर्ट के एक फैसले की वजह से आवेदन State Level Environment Impact Assessment Authority, Jharkhand (SEIAA, Jharkhand) को ट्रांस्फर हो गया. उसके बाद फिर से विभाग ने इस ओर ध्यान देना बंद कर दिया. 20 जून 2019 को विभाग ने Environment Clearance के लिए प्रोसेस किया. इस बीच मामले को लेकर वरिष्ठ पर्यावरणविद् आरके सिंह ने एनजीटी में आवेदन दिया है. दो सितंबर को सुनवाई के दौरान एनजीटी ने झारखंड सरकार को नोटिस भेजा है. एनजीटी ने नोटिस का जवाब तीन सप्ताह के अंदर देने को कहा है. साथ ही Ministry of Environment, Forest and Climate Change (MoEF, CC) भुवनेश्वर की एक कमेटी बनायी है. इस कमेटी को झारखंड में जांच पूरी करने में State Level Environment Impact Assessment Authority, Jharkhand (SEIAA, Jharkhand) सहयोग करेगा. एनजीटी की ऐसी कार्रवाई के महज दो दिनों के बाद  SEIAA, Jharkhand ने Environment Clearance जारी कर दिया.

इसे भी पढ़ें – 31 में से 14 विभाग ही सिंगल विंडो से जुड़े, निवेश कम होने के कारण दो विभागों को सिस्टम से हटाया

जरूरी था पीएम मोदी के लिए Environment Clearance

दुनिया भर में पर्यावरण को लेकर दो बार पीएम मोदी की चर्चा हुई. पहली बार United Nation Environment की तरफ से 2018 में Champion Of the Earth के सम्मान से नवाजा गया था. उन्हें पर्यावरण संरक्षण में सोलर एनर्जी पर काम करने के लिए United Nation की तरफ से यह सम्मान मिला था. उनके साथ फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्यूएल मैक्रौन को भी इस सम्मान से सम्मानित किया गया था. वहीं हाल ही में चर्चित शो Discovery Channel पर Man Vs Wild में पर्यावरण पर आधारित शो बियर ग्रिल्स के साथ करते हुए देखा गया था. दुनिया भर में इस शो के बारे में खूब चर्चा हुई है. ऐसे में अगर बिना Environment Clearance के उद्घाटन होता तो यह पीएम की शख्सियत पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर असर करता.

इसे भी पढ़ें – #JPSC: छठे जेपीएससी मामले में कोर्ट ने पूछा- विज्ञापन के खिलाफ जाकर क्यों जारी किया गया रिजल्ट

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like