न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पुलिसकर्मियों की कमी से जूझ रहा है देवघर का पथरौल थाना, कई दिनों तक था बंद

755

Deoghar : सुरक्षा की जिम्मेदारी के साथ-साथ असामाजिक तत्वों पर अंकुश लगाने के लिए थाने बनाए जाते हैं. लेकिन देवघर जिले का पथरौल थाना खुद ही पुलिसक्रमियों की कमी झेल रहा है. जिसकी वजह से लोगों की समस्या सुलझाने वाला यह थाना स्वयं अब असहाय नजर आ रहा है.

मिली जानकारी के अनुसार रोजाना औसतन 10 से 15 शिकायतें आती है. लेकिन पथरौल थाना इन दिनों पुलिसकर्मियों की भारी कमी से जूझ रहा है. थाना खुलने के कुछ दिनों के बाद यहां दारोगा की प्रतिनियुक्ति की गई थी. लेकिन कुछ दिनों के बाद दरोगा छुट्टी पर चले गए. उनके छुट्टी पर जाने के बाद उनकी जगह पर किसी भी दारोगा को पदस्थापित नहीं किया गया.

JMM

जिसकी वजह से कई दिनों तक थाना बंद पड़ा रहा. हालांकि इस मामले में देवघर एसपी का कहना है कि थाना के उद्घाटन होने के समय से ही दारोगा की पोस्टिंग की गई है और काम काज भी सुचारू रूप से चल रहा है.

इसे भी पढ़ें – मोदी को “राष्ट्र ऋषि” की उपाधि देने पर मतभेद, घोषणा के हफ्ते भर बाद काशी परिषद में फूट

काफी दिनों तक बंद रहा था थाना

पथरौल थाना को खुले तीन महीने होने को है. जब यह थाना खुला था उस समय एक दारोगा की पोस्टिंग की गई थी. लेकिन कुछ ही दिनों के बाद दारोगा के भाई की तबीयत खराब होने की वजह से वह छुट्टी पर चले गए. जिसके बाद थाने में ताला लग गया.

बताया जा रहा है कि हाल के दिनों में एक एसआई रैंक के अधिकारी की पोस्टिंग की गई है जो की काफी नहीं है. यहां और भी पुलिसकर्मियों की जरूरत है. क्योंकि थाने की हालत कुछ इस तरह की है कि एक भी अधिकारी छुट्टी पर जाते हैं तो लोगों को काफी परेशानी होती है.

इसे भी पढ़ें – कैलाश विजयवर्गीय ने कहा- बंगाल में जय महाकाली, जय श्री राम होगें BJP के नारे

8 मार्च को हुआ था उद्घाटन

8 मार्च 2019 को पथरौल थाना का उद्घाटन श्रम नियोजन मंत्री राज पलिवार व पुलिस अधीक्षक नरेंद्र कुमार सिंह ने किया था. मौके पर मंत्री ने कहा था कि देवघर जिला को एक खूबसूरत जिला बनाएंगे.

पथरोल में थाना खुलने से क्षेत्र की जनता को इसका सीधा फायदा मिलेगा. अपराध नियंत्रण में त्वरित कार्रवाई करने में पुलिस को मदद मिलेगी. मां काली मंदिर में चोरी की घटना के बाद ही सुरक्षा को लेकर थाना बनाने का प्रस्ताव लिया गया था.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like