न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रंगदारों ने पुल निर्माण कार्य स्थल पर की बमबारी, दहशत में ग्रामीण

115

Pakur : जिला मुख्यालय से महज आठ किलोमीटर दूरी पर स्थित सदर ब्लॉक के रामचंद्रपुर-तारानगर के बीच काना नदी पर आई ए एंगीकॉन्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा पांच करोड़ की लागत से हाई लेबल ब्रिज का निर्माण किया जा रहा है. ब्रिज निर्माण के दौरान गांव के कुछ असामाजिक तत्वों एवं अपराधी किस्म के लोगों द्वारा बम विस्फोट कर दिए जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है.

इसे भी पढ़ें – मई में सेवामुक्त हो रहे हैं डीजीपी डीके पांडेय लेकिन नक्सल मुक्त झारखंड बनाने का उनका दावा हो गया…

मुंशी जान बचाकर भागे, संवेदक ने विभागीय पदाधिकारी से मांगी सुरक्षा

हालांकि किसी तरह की कोई हताहत नहीं हुआ है. ब्रिज निर्माण में कार्य कर रहे मजदूर एवं मुंशी जान बचाकर भाग गये. इस संदर्भ में संवेदक आई ए एंगीकॉन्स प्राइवेट लिमिटेड ने कार्यपालक अभियंता ग्रामीण विकास विशेष प्रमंडल पाकुड़ को आवेदन देकर सामाजिक व आपराधिक किस्म के लोगों पर कार्य रोकने, बाधा पहुंचाने एवं दहशत की नीयत से बमबाजी का आरोप लगाते हुए सुरक्षा की मांग की है.

दिए पत्र में उल्लेख किया है कि रामचंद्रपुर से तारानगर के बीच काना नदी पर हाई लेबल ब्रिज निर्माण कार्य चल रहा है. बीते 31 मार्च 2019 को रात्रि करीब दस बजे कार्य स्थल पर अब्दुल बारी उर्फ टुल्‍लू शेख पिता शीश मोहम्मद एवं मोबेतुर पिता शीश मोहम्मद समेत आधा दर्जन लोग बलपूर्वक मेरा पाइलिंग मशीन बंद किया और मना करने पर दो-तीन बम विस्फोट कार्य स्थल पर कर दिया.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

स्टाफ द्वारा गाली गलौच किया और धमकी दी कि मुझे रंगदारी दो नहीं तो कार्य बंद करो. इसके बाद कर्मी किसी तरह जान बचाकर भाग खड़े हुए.ग्रामीणों ने यह भी बताया कि दो राउंड गोली भी चलाई है.

इसे भी पढ़ें – 4.50 करोड़ का विश्वा भवन, 22 कमरे, 27 लाख का सालाना मेंटेनेंस और बुकिंग मात्र 45-60 दिन ही

कार्यपालक अभियंता ने डीसी से रंगदारों पर कार्रवाई की मांग की

इधर कार्यपालक अभियंता ने उक्त मामले को गंभीरता से लेते हुए डीसी को पूरे मामले से अवगत कराते हुए पत्र लिखा है. कार्यपालक अभियंता ने डीसी को दिए आवेदन में उल्लेख किया है कि सदर ब्लॉक के रामचंद्रपुर गांव से तारानगर के बीच काना नदी पर संवेदक आई ए एंगीकॉन्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा एक पुल का निर्माण किया जा रहा है.

संवेदक द्वारा प्रसंगाधीन पत्र के माध्यम से लिखित सूचना दिए है कि उक्त स्थल पर 31 मार्च की रात्रि करीब 10 बजे कार्य स्थल पर बम विस्फोट कर रंगदारी मांगते हुए कार्य को बंद कर दिया है. कार्य स्थल पर मजदूर एवं कर्मी डरे हुए हैं. पाकुड़ से रामचंद्रपुर जाने का रास्ता सुनसान पड़ता है.

ऐसी परिस्थिति में विभागीय अभियंताओं में भी काफी असुरक्षा की भावना है. अभियंता ने आवेदन में यह भी उल्लेख किया है कि सरकारी कार्य को बलपूर्वक बाधित करने, रंगदारी मांगने आदि के लिए दोषियों पर आवश्यक कार्रवाई करने की मांग की है.

इसे भी पढ़ें – PHD छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा रांची यूनिवर्सिटी, फिर से टाली प्रवेश परीक्षा की तारीख

पुल निर्माण में गड़बड़ी का आरोप लगाकर सीएम को लिखा पत्र

संवेदक द्वारा बमबाजी की घटना को लेकर विभागीय अधिकारी को लिखित शिकायत के बाद कुछ लोगों ने सीएम को लिखित शिकायत दिया है. भेजे गये आवेदन में ग्रामीण अब्दुल बारी, हसनुजमान, संजीव साह, काल्‍लू शेख, सफीकुल शेख,समा शेख आदि ने लिखा है कि निर्माण कार्य में सीमेंट की मात्रा बहुत ही कम दी जा रही है. कार्य स्थल पर कनीय अभियंता नहीं रहते हैं. पुल निर्माण मनमाने ढंग से किया जा रहा है. ग्रामीणों ने इसकी जांच की मांग की है.

इसे भी पढ़ें – राम की भक्ति में डूबा पलामू, दूसरी मंगलवारी पर निकली शोभायात्रा, ‘जयश्रीराम’ के उद्घोष से गूंजा…

क्या कहते है कार्यपालक अभियंता

ग्रामीण विकास विशेष प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता अशोक कुमार ने बताया कि संवेदक द्वारा लिखित शिकायत की है. कुछ रंगदारों द्वारा बमबाजी की गयी है. रंगदारी की मांग की जाती है.यह भी बताया कि अभियंता कार्य स्थल पर रहकर कार्य करवाते हैं.

बताया उक्त मामले को लेकर जिले के वरीय अधिकारियों को लिखित सूचना दी गयी है. आवश्यक कार्रवाई की जा रही है. यह जनहित का कार्य है, अगर कार्य को लेकर कोई शिकायत हो तो मुझे दें, कार्रवाई की जाएगी. लेकिन दहशत फैलाने की नीयत से बम विस्फोट करना बिल्कुल गलत है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड कांग्रेस : रांची से सुबोधकांत, सिंहभूम से गीता कोड़ा और लोहरदगा से सुखदेव भगत लड़ेंगे चुनाव

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like