न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

फेसबुक पर इमरान की तारीफ, मोदी की आलोचना भारी पड़ी प्रोफेसर को, एबीवीपी ने माफी मांगने को विवश किया

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के कार्यकर्ताओं ने शनिवार को कर्नाटक के एक कॉलेज के प्रोफेसर को सोशल मीडिया पर कथित भारत विरोधी संदेश लिखने पर घुटनों के बल माफी मांगने के लिए मजबूर किया.

355

Bengaluru :   सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की तारीफ करना कर्नाटक के विजयपुरा में एक इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रोफेसर को भारी पड़ गया. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के कार्यकर्ताओं ने शनिवार को कर्नाटक के एक कॉलेज के प्रोफेसर को सोशल मीडिया पर कथित भारत विरोधी संदेश लिखने पर घुटनों के बल माफी मांगने के लिए मजबूर किया. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यह घटना कर्नाटक के विजयपुरा के वचना पितामह डॉ पीजी हलाकटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी में हुई. घटना पुलिस कांस्टेबल की मौजूदगी में हुई, लेकिन अब तक कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है. बता दें कि कॉलेज में सिविल इंजीनियरिंग के प्रोफेसर संदीप वाथर ने अपने दो पोस्ट में से एक में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की प्रशंसा की. उन्होंने देश में युद्ध जैसी स्थिति पैदा करने के लिए केंद्र की भाजपा सरकार पर सवाल उठाया. दूसरे पोस्ट में उन्होंने तनाव को बढ़ाने और युद्ध जैसी स्थिति पैदा करने के लिए ‘भक्तों’ पर निशाना साधा. उन्होंने अपने पोस्ट में लिखा कि इसमें सबसे ज्यादा बुद्धिमान कौन दिखता है. आप भक्त. अगर ऐसे ही तनाव बढ़ा और करोड़ों लोगों की जान जाने के कारण आप लोग होंगे.

एबीवीपी और भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रोफेसर के इस्तीफे की मांग की है. विवाद बढ़ने पर प्रोफेसर ने फेसबुक पोस्ट को डिलीट कर दिया है. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो के अनुसार दक्षिणपंथी समूह के कार्यकर्ताओं ने संदीप वाथर को घुटनों के बल पर माफी मांगने के लिए मजबूर किया. जानकारी के अनुसार कार्यकर्ताओं ने प्रोफेसर के निलंबन की मांग भी की है. रिपोर्ट्स के अनुसार प्रिंसिपल ने उन्हें आश्वस्त किया है कि मंगलवार को कॉलेज खुलने के बाद प्रोफेसर के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी.

JMM
इसे भी पढ़ेंः अर्धसैनिक बलों के रिटायर्ड जवानों का प्रदर्शन, कहा-सेना की तरह सुविधा दे मोदी सरकार, चुनाव में सबक सिखायेंगे

सेना और भारत के लोगों की गहरी भावनाओं का ध्यान रखना होगा

इस संबंध में भाजपा नेता विवेक रेड्डी ने कहा, प्रोफेसर को संकट के समय हमारी सेना और भारत के लोगों की गहरी भावनाओं का ध्यान रखना होगा. आप पाकिस्तान की तारीफ करते हुए ऐसा कोई भी बयान नहीं दे सकते, जिससे भारत की नकारात्मक छवि बने.  कॉलेज कर्नाटक के गृहमंत्री एमबी पाटिल का है, लेकिन उनकी ओर से कोई टिप्पणी सामने नहीं आयी. बता दें कि पिछले साल दिसंबर में  मणिपुर के एक पत्रकार को सोशल मीडिया पर कथित तौर पर सत्तारूढ़ भाजपा सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करने को लेकर कस्टडी में लिया गया था. राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत उसे एक साल तक हिरासत में रखने की सजा सुनाई गयी. सरकार के अनुसार 39 वर्षीय किशोरचंद्र वांगखेम को शुरू में 27 नवंबर को हिरासत में लिया गया था.

इसे भी पढ़ेंः पीएम मोदी और भाजपा वायुसेना की एयर स्ट्राइक का श्रेय ले रहे हैं :  चिदंबरम  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like