न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में उछाल जारी, आनेवाले दिनों में और बढ़ सकते हैं दाम

129

NW Desk: पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतें हर रोज नये रिकॉर्ड बना रही है. वहीं आनेवाले दिनों में पेट्रोलियम उत्पाद के दाम और उछल सकते हैं. और इसका कारण ये है कि प्रमुख तेल उत्पादक देशों ने उत्पादन बढ़ाने से इनकार कर दिया है.

इसे भी पढ़ेंः5 हजार करोड़ का घोटालेबाज गुजराती कारोबारी नितिन संदेसरा फरार, नाईजीरिया में होने की सूचना

JMM

ऐसे में कच्चे तेल की कीमत 80 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर चला गया. ग्लोबल ऐनलिस्ट्स का कहना है कि अमेरिकी प्रतिबंधों के कारण ईरान से आपूर्ति घटने के बाद कच्चे तेल की कीमत 100 डॉलर प्रति बैरल के पार जाने के आसार हैं.

ज्ञात हो कि रूस की अगुवाई में तेल उत्पादक और निर्यातक देशों (OPEC) और उनके सहयोगियों ने पिछले हफ्ते फैसला किया था कि ये देश प्रतिबंध से प्रभावित ईरान से आपूर्ति में होने वाली किसी भी कमी को पूरा करने के लिए उत्पादन नहीं बढ़ाएंगे. वही सोमवार को क्रूड ऑइल की कीमत 2 डॉलर प्रति बैरल चढ़कर 81 डॉलर प्रति बैरल के करीब पहुंच गई.

इसे भी पढ़ेंःअब ग्रामीण बैंकों का होगा विलय,  56 से घट कर 36 रह जायेंगे बैंक

Bharat Electronics 10 Dec 2019

90 का आंकड़ा पार कर चुकी पेट्रोल

इधर मंगलवार को मुंबई में पेट्रोल 90.22 रुपये प्रति लीटर हो गई. जबकि डीजल के दाम बढ़कर 78.69 रुपये प्रति लीटर हो गया. बात देश की राजधानी दिल्ली की करें तो पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतें क्रमश: 82.86 और 74.12 रुपये प्रति लीटर हो गई है. इधर सरकार पहले ही खजाने की हालत का हवाला देकर एक्साइज ड्यूटी घटाने से मना कर चुकी है.

भारत घटा सकता है कच्चे तेल का आयात

वही कच्चे तेल की लगातार बढ़ती कीमतों और डॉलर के मुकाबले गिरता रुपया दोनों ही भारत के लिए परेशानी बने हुए हैं. उम्मीद है कि इससे निपटने के लिए आनेवाले दिनों में सरकार कोई ठोस कदम उठा सकती है. ऐसे में तेल के आयात में कमी करने पर भी विचार किया जा रहा है. ज्ञात हो कि भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल आयातक देश है.

इसे भी पढ़ेंःदिल्ली का आईजीआई एयरपोर्ट दुनिया का 16वां सबसे व्यस्त एयरपोर्ट

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like