न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राहुल गांधी ने अर्थव्यवस्था पर कहा,  दशकों की मेहनत से हमने बनाया ,  भाजपा सरकार नष्ट कर रही है

92

NewDelhi :  भाजपा सरकार कुछ नहीं बना सकती. दशकों की मेहनत और जुनून से हमने जो बनाया है वह उसे सिर्फ नष्ट सकती है. इन शब्दों के साथ राहुल गांधी ने भारत में बिगड़ती अर्थव्यवस्था पर चिंता जताते हुए केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है. राहुल गांधी ने मंदी को मुद्दा बनाते हुए गिरती अर्थव्यवस्था पर केंद्र सरकार की नीतियों पर सवाल खड़े किये हैं.

राहुल गांधी ने इस मामले पर  ट्वीट कर कहा,  भाजपा सरकार कुछ नहीं बना सकती. दशकों की मेहनत और जुनून से हमने जो बनाया है वह उसे सिर्फ नष्ट सकती हैं. इस क्रम में  राहुल गांधी ने एक फाइल भी शेयर की है, जिसमें नौकरियों की कमी की जानकारी दी गयी है

Jmm 2

अर्थव्यवस्था की दृष्टि से भारत सातवें पायदान पर पहुंच गया

Related Posts

#IncomeTaxDepartment ने जारी की सार्वजनिक सूचना,  पैन को आधार से 31 दिसंबर तक जोड़ना अनिवार्य  

सुप्रीम कोर्ट ने व्यवस्था दी थी कि आयकर रिटर्न दाखिल करने और पैन के आवंटन के लिए बायोमीट्रिक पहचान संख्या अनिवार्य रहेगी.

जान लें कि राहुल गांधी की टिप्पणी ऐसे समय में आयी है जब भारत के सिर से दुनिया की पांचवीं बड़ी अर्थव्यवस्था का ताज छिन गया है. अर्थव्यस्था की दृष्टि से भारत सातवें पायदान पर पहुंच गया है.  विश्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार  2018 में ब्रिटेन और फ्रांस की अर्थव्यवस्था में भारत के मुकाबले ज्यादा ग्रोथ रिकॉर्ड की गयी, जिस वजह से इन दोनों से एक-एक पायदान का छलांग लगायी है. ब्रिटेन पांचवें स्थान पर पहुंच गया है जबकि छठे स्थान पर फ्रांस काबिज हो गया है.  भारत पांचवें स्थान से खिसक कर सातवें पायदान पर आ गया है. अमेरिका टॉप पर बरकरार है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

आंकड़ों के अनुसार भारत की अर्थव्यवस्था 2018 में महज 3.01 फीसदी बढ़ी, जबकि साल 2017 में 15.23 फीसदी का इजाफा देखा गया था.  इसी तरह ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था 2018 में 6.81 फीसदी बढ़ी. जिसमें साल 2017 में महज 0.75 फीसदी का उछाल आया था. इसके अलावा अगर फ्रांस की बात करें तो साल 2018 में इसकी अर्थव्यवस्था 7.33 फीसदी बढ़ी, जो कि साल 2017 में सिर्फ 4.85 फीसदी बढ़ी थी.

इसे भी पढ़ेंः वित्त मंत्रालय की प्रेस कॉन्फ्रेंस में  पत्रकार नहीं पूछ सकते सवाल,  ईमेल कर पूछ सकते हैं सवाल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like