न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची में नियमों को ताक पर रखकर चल रहे प्ले स्कूल, 600 में मात्र 130 ने ही कराया रजिस्ट्रेशन

216

Ranchi :   हाईकोर्ट के निर्देश के बाद राज्य में दो साल पहले प्ले स्कूलों की स्थापना व नियंत्रण के लिए सरकार द्वारा प्ले स्कूल रेगूलेशन एंड कंट्रोल नियमावली 2017 लागू किया गया. लेकिन नियम केवल बनकर रह गया है. इस नियम के तहत प्ले स्कूलों को संचालन के लिए महिला व बाल विकास विभाग से रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य था.

केवल रांची जिले में 600 से अधिक प्ले स्कूल हैं. जिला समाज कल्याण शाखा को कुल 244 एप्लिकेशन रजिस्ट्रेशन के लिए मिले थे, जिनमें से 130 प्ले स्कूलों का रजिस्ट्रेशन हो गया है. जबकि बाकि जो भी प्ले स्कूल रांची में कई साल पहले चलाये जा रहे हैं, उनके रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया अब भी चल ही रही है. वहीं नियम के लागू हो जाने के बाद इसे जिस विभाग को कड़ाई से लागू करना था, उसने ही शिथिलता बरत रखी है.

Trade Friends

इसे भी पढ़ें – रांची जिले में 35131.65 एकड़ जमीन की हुई अवैध जमांबदी, 17488 मामले लंबित

क्या कहती है नियमावली

नियमानुसार, सभी प्ले स्कूलों को महिला एवं बाल विकास विभाग से रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य है. नियमावली में ट्रेंड शिक्षक रखने, स्कूल भवन में सीसीटीवी, बच्चों के अनुसार शौचालय, खेलने का सामान, शारीरिक दंड नहीं देने जैसी बातें कही गयी हैं.

साथ ही स्कूलों में ट्रेंड टीचर हैं या नहीं, नियम का पालन हो रहा है या नहीं, ये बातें रजिस्ट्रेशन कराने के लिए आवेदन देने के बाद वेरिफिकेशन में क्लियर करना था. इस नियमावली के तहत गैरनिबंधित प्ले स्कूलों का संचालन गैर कानूनी है.

इसे भी पढ़ें – रांची में इन 16 जगहों पर चल रहा है मटका का खेल, हर दिन हो रहा 50 लाख का जुआ

क्या है वर्तमान स्थिति

WH MART 1

जिले में संचालित हो रहे 600 से अधिक प्ले स्कूलों के रजिस्ट्रेशन व उनपर नियंत्रण की जिम्मेदारी जिला समाज कल्याण पदाधिकारी पर है. रांची जिला समाज कल्याण पदाधिकारी सुमन सिंह के मुताबिक, प्ले स्कूलों की जांच व रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया चल रही है. जिला समाज कल्याण शाखा को 117 स्कूलों से मिले आवेदन के बाद उनकी जांच की गयी. पहले चरण की जांच के बाद 82 स्कूलों को रजिस्टर्ड किया गया है.

पहले चरण में जितने स्कूल बच गये हैं, वे प्ले स्कूल रेगूलेशन एंड कंट्रोल एक्ट के तहत निर्धारित क्राइटेरिया को पूरा नहीं करते हैं. ऐसे में उनपर क्या कार्रवाई करनी है, इसके लिए महिला व बाल विकास विभाग को दिशा-निर्देश के लिए पत्र लिखा गया है.

तब क्या हुआ था

दो साल पहले जब नियम को कड़ाई से पालन करने की बात आयी थी, तब अवैध संचालित हो रहे प्ले स्कूलों पर शिकंजा कसने के लिए जिला समाज कल्याण शाखा ने आवेदन जारी किया था. उस समय रांची जिले से 233 प्ले स्कूलों ने आवेदन लिया, लेकिन मात्र 180 प्ले स्कूलों ने ही आवेदन जमा किया है. जिला समाज कल्याण शाखा की ओर से बगैर निबंधन वाले स्कूलों को भी चिह्नित करने के लिए शहर को 13 सेक्टर में बांटा गया था. इसके लिए 16 सीडीपीओ को जिम्मेदारी भी सौंपी गई थी.

अरगोड़ा से आए थे सबसे ज्यादा आवेदन

जिन प्ले स्कूलों ने रजिस्ट्रेशन के लिए जिला समाज कल्याण कार्यालय में आवेदन दिया है, उसकी क्षेत्रवार सूची तैयार की गयी थी. सबसे ज्यादा प्ले स्कूलों के आवेदन अरगोड़ा इलाके से आये हैं. वहीं सोनाहातू, तमाड़ जैसे प्रखंडों से भी आवेदन मिले हैं.

इसे भी पढ़ें – सचिवालय सेवा में एसटी प्रशाखा पदाधिकारी के 171 पद स्वीकृत, कार्यरत सिर्फ एक, 99.5% पोस्ट खाली

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like