न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हाल ए टीचर ट्रेनिंग कॉलेज : जान हथेली पर लेकर रहते हैं ट्रेनी, शौच के लिए भी खुले में जाने को विवश

1,064

Dilip Kumar

Palamu : राज्य एवं केन्द्र सरकार शिक्षा की स्थिति में सुधार करने और नये-नये स्कूल एवं कॉलेज  भवन बनाने का दंभ तो हर दिन भरती है. लेकिन इसकी जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां करती है. इसकी बानगी पलामू प्रमंडल के सबसे पुराने ट्रेनिंग कॉलेज में देखने को मिल रही है.

JMM

भवन का अधिकतर हिस्सा जर्जर है. छत की हालत तो देखने लायक नहीं है. बारिश का मौसम होने की वजह से भवन का छत कभी भी गिर सकता है. क्योंकि हल्की बारिश में भी छत से पानी टपकने लगताहै. यहां के लेक्चरर और ट्रेनी छात्र हमेशा भय के साये में रहने को विवश हैं. ये हाल है पलामू के सतबरवा स्थित प्राथमिक शिक्षक शिक्षा महाविद्यालय का.

लंबे समय से है जर्जर भवन

प्राथमिक शिक्षक शिक्षा महाविद्यालय के भवन की जर्जर स्थिति लंबे समय से बनी हुई है. कई वर्षों तक ट्रेनिंग कॉलेज अपने भवन में चलता रहा, लेकिन इसकी स्थिति जब खस्ताहाल हो गयी तो पास से बुनियादी विद्यालय में इसे शिफ्ट किया गया. बुनियादी विद्यालय का अपना भवन बनने के कारण उसे नये भवन में स्थानान्तरित किया गया था. अब बुनियादी विद्यालय का पुराना भवन भी जर्जर हालत में पहुंच गया है. ऐसे में कॉलेड परिसर में नया या पुराना कोई भवन नहीं बचा, जहां महाविद्यालय को एक बार फिर शिफ्ट किया जा सके.

इसे भी पढ़ें –मॉब लिंचिंग :  अकबरुद्दीन ओवैसी ने  फिर दोहरायी  15 मिनट वाली बात… 

पलामू प्रमंडल का सबसे पुराना है यह महाविद्यालय

पलामू प्रमंडल में चार शिक्षक शिक्षा महाविद्यालय हैं. लेकिन इसमें सतबरवा स्थित प्राथमिक शिक्षक शिक्षा महाविद्यालय सबसे पुराना है. महाविद्यालय के पास 26 एकड़ जमीन है. बावजूद इसके बेहतर भवन के लिए ये कॉलेज तरस रहा है. इसके अलावा प्रमंडलीय मुख्यालय मेदिनीनगर में एक, रेहला (पलामू) में एक और लातेहार में एक प्रशिक्षण कॉलेज है.

बिना छत का है शौचालय, हमेशा रहता है बंद 

कॉलेज में शौचालय तो है पर वो हमेशा बंद ही रहता है. साथ ही शौचालय के ऊपर छत भी नहीं है और स्थिती भी खस्ताहाल है. ऐसे में इसका उपयोग छात्र नहीं कर पाते हैं. ट्रेनिंग कॉलेज के सीनियर लेक्चरर शशिकांत पाठक ने बताया कि महाविद्यालय का भवन गिर चुका है. पिछले कई वर्षों से बुनियादी विद्यालय के पुराने जर्जर भवन में ट्रेनिंग कॉलेज चलाया जा रहा है. यहां शौचालय तक की व्यवस्था नहीं है. लोकसभा चुनाव के दौरान शौचालय बना, लेकिन उसमें छत नहीं है और हर वक्त उसमें ताला लटका रहता है.

इसे भी पढ़ें –मॉनसून सत्र का तीसरा दिनः सदन में गूंजा ‘जय श्रीराम’ का नारा, बाधित रही कार्यवाही

एक हॉस्टल बना हुआ है धान गोदाम

शशिकांत पाठक ने बताया कि ट्रेनिंग कॉलेज में दो हॉस्टल हैं. लेकिन एक हॉस्टल पर एफसीआई ने गोदाम बना रखा है. उसमें धान रखा जाता है. वहीं लेक्चरर बलराम पाठक ने बताया कि हमारा हाल खानाबदोशों की तरह हो गया है.

नारकीय है हॉस्टल की स्थिति

प्रशिक्षण के दौरान जिस हॉस्टल में विद्यार्थी रहते हैं, उसकी स्थिति काफी दयनीय है. भवन का पाया टूटा हुआ है. पानी और शौचालय की व्यवस्था भी नहीं है. छत से पानी टपकता रहता है. फिलहाल इस कॉलेज में पलामू प्रमंडल के 20 छात्र प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं. विद्यार्थियों में मुकेश कुमार (तरहसी-पलामू), सागर सिंह (पाटन-पलामू), अशोक राम (हजारीबाग), नागेंद्र कुमार (छतरपुर-पलामू) ,सत्येंद्र पासवान और मोहन कुजुर, (गारू-लातेहार), अजीत करकेटा (महुआडांड़-लातेहार), गिरीश किसान (नेतरहाट-लातेहार) हैं.

इसे भी पढ़ें –आम्रपाली केस में बड़ा खुलासाः फ्लैट खरीददारों का पैसा धोनी की पत्नी साक्षी की कंपनी में हुआ ट्रांसफर

पास की नदी किनारे शौच के लिए जाते हैं विद्यार्थी

शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय में प्रशिक्षण ले रहे विद्यार्थियों का कहना है कि हमें यहां रहकर पढ़ने में काफी परेशानी होती है. शौचालय नहीं है, जिससे शौच के लिए पास की एक नदी में जाना पड़ता है. पानी की व्यवस्था नहीं है. बहुत दूर से पानी लाना पड़ता है. जहां हम लोग रहकर पढ़ते हैं, सोते हैं, वहां छत से पानी टपकता है. गर्मी से हमलोग हमेशा परेशान रहते हैं. कॉलेज में एक पंखा तक नहीं है, जबकि हमलोग प्रति माह फीस भी देते हैं. साथ ही छात्रों का कहना है कि कॉलेज की अवस्था ऐसी है कि कई बार हॉस्टल में सांप भी घुस चुका है.

अलग-अलग विधानसभा में पड़ता है ट्रेनिंग कॉलेज और हॉस्टल    

व्याख्याता बलराम पाठक ने बताया कि ट्रेनिंग कॉलेज मनिका विधानसभा में तथा एक हॉस्टल पांकी विधानसभा और एक हॉस्टल डालटनगंज विधानसभा में पड़ता है. एक हॉस्टल पांकी विधानसभा में पड़ने की वजह से वह चतरा संसदीय क्षेत्र में भी पड़ता है. अलग-अलग विधानसभा क्षेत्र में पड़ने के कारण भी कॉलेज और हॉस्टल के विकास पर जनप्रतिनिधियों का ध्यान नहीं जाता.

जिम क्लब पर चतरा सांसद का ध्यान, कॉलेज की अनदेखी

लेक्चरर बलराम पाठक ने बताया कि ट्रेनिंग कॉलेज से सटे सद्भावना भवन में चतरा सांसद सुनील सिंह की ओर से जिम क्लब खोला गया है. लेकिन कॉलेज की ओर किसी का ध्यान नहीं है. साथ ही उन्होंने कहा कि जिन क्लब खोलने से तो अच्छा था कि वही पैसा ट्रेनिंग कॉलेज और हॉस्टल को ठीक करने पर खर्च किया जाता. शिक्षा का महत्व अभी भी लोगों को पता नहीं है.

इसे भी पढ़ें –ढुल्लू महतो पर मेहरबान जीरो टॉलरेंस की सरकार, धनबाद SSP नहीं दे रहे ED को सूचना

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like