न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सबरीमाला केस: मंदिर में महिलाओं के प्रवेश का मामला SC ने बड़ी बेंच को भेजा, पिछला फैसला फिलहाल बरकरार

53

New Delhi : सबरीमाला मंदिर में  महिलाओं के प्रवेश का मामला लटक गया है. इस मामले आज फैसला आने की उम्मीद थी. मामले की सुनवाई कर रहे सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की बेंच ने अपने फैसले पर पुनर्विचार याचिकाओं को बड़ी बेंच को भेज दिया है. इस मामले को 3 जजों ने बहुमत से 7 जजों की संविधाम पीठ को रेफर कर दिया है. वहीं 2 जजों- जस्टिस नरीमन और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने मामले के खिलाफ अपना निर्णय दिया है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने इस मामले पर कहा है कि धार्मिक प्रथाओं को सार्वजनिक आदेश, नैतिकता और संविधान के भाग 3 के अन्य प्रावधानों के खिलाफ नहीं होना चाहिए.

इसे भी पढ़ें – #JharkhandElection  रांची, कांके सहित कुछ सीटों पर कांग्रेस ने बीजेपी को दिया वॉक ओवर!

JMM

यह महिलाओं के अधिकारों की सुरक्षा का मामला

इस मामले में चीफ जस्टिस गोगोई ने कहा कि मामले में याचिकाकर्ता बहस को पुनर्जीवित करना चाहते हैं कि धर्म का अभिन्न अंग क्या है. कोर्ट ने कहा कि सिर्फ पूजा स्थलों पर ही महिलाओं का प्रवेश मंदिर तक सीमित नहीं है. बल्कि मस्जिद में महिलाओं का प्रवेश भी शामिल है.

गोगोई ने कहा कि 7 जजों की संविधान पीठ अब इस मामले पर सुनवाई करेगी. साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने मामले में यह भी साफ किया कि महिलाओं के प्रवेश पर पिछला फैसला फिलहाल बरकरार रहेगा. कोर्ट ने केरल सरकार से कहा है कि सरकार इस लागी करने पर फैसला ले.

गौरतलब है कि पीरे मामले को महिलाओं के अधिकारों की रक्षा के लिहाज से देखा जा रहा है. क्योंकि इससे पहले भी सुप्रीम कोर्ट ने इसपर अपना फैसला देते हुए 10 से 50 साल की महिलाओं के मंदिर में प्रवेश पर लगायी गयी पाबंदी को लिंग आधारित भेदभाव माना था.

Related Posts

#Gujarat : पर्यटकों के मामले में स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी से आगे निकली स्टेच्यू ऑफ यूनिटी

अनावरण के सालभर बाद ही स्टेच्यू ऑफ यूनिटी को रोजाना देखने आने वाले पर्यटकों की संख्या अमेरिका के 133 साल पुराने स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी  के पर्यटकों से ज्यादा हो गयी है.

इसे भी पढ़ें – #JharkhandElection  झरिया सीट पर ट्विस्ट, रागिनी सिंह के पति संजीव सिंह को मिली चुनाव लड़ने की अनुमति

केरल में पहले से ही हाई अलर्ट

गौरतलब है कि 28 सितंबर, 2018 को दिया गये सुप्रीम कोर्ट के फैसले को बाद हिंसक विरोध हुआ था. और 56 पुनर्विचार याचिकाओं को साथ कुल 65 याचिकाएं आयी थीं जिसपर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की बेंच ने  फैसला लिया है.

पांच जजों की संविधान पीठ ने सभी याचिकाओं पर 6 फरवरी को सुनवाई पूरी कर ली थी. मामले में पीठ की ओर से कहा गया था कि फैसला बाद में सुनाया जाएगा. वहीं फैसले से पहले ही केरल में हाई अलर्ट था. केरल पुलिस की ओर से भी  सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गये हैं.साथ ही शुरू हो रहे पूजा फेस्टिवल के लिए सबरीमाला के आसपास 10 हजार जवानों को तैनात किया गया है. और 307 महिला पुलिसकर्मियों को भी सुरक्षा के लिए लगाया गया है.

इसे भी पढ़ें – #JharkhandElection: 2019 के विधानसभा चुनाव में कई हैं ऐसे नेता जो जातो गंवाये और भातो नहीं खाये!

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like