न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सरयू राय ने जमशेदपुर प. के साथ-साथ रघुवर के विधानसभा क्षेत्र जमशेदपुर पू. का भी नामांकन पत्र खरीदा, बढ़ेगी CM की मुश्किलें

7,041

Pravin Kumar

Ranchi: खबर है कि भाजपा के कद्दावर नेता व राज्य सरकार के मंत्री सरयू राय ने जमशेदपुर पश्चिमी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिये नामांकन पत्र खरीदा है. इसके साथ ही उन्होंने जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए भी नामांकन पत्र खरीदा है. इसकी पुष्टि जमशेदपुर समाहरणायल के एक अधिकारी ने की है.

JMM

जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा क्षेत्र राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास का क्षेत्र है. पार्टी ने उन्हें वहीं से टिकट भी दिया है. जबकि सरयू राय का टिकट अभी तक होल्ड पर रखा है.

इसे भी पढ़ें- #JharkhandElection : बाबूलाल ने कहा- इस बार राज्य भर में भाजपा से असली लड़ाई लड़ेगा झाविमो

रघुवर को परेशानी में डाल सकता है सरयू का जमशेदपुर पूर्वी से चुनाव लड़ना 

अगर सरयू राय जमशेदपुर पूर्वी से चुनाव लड़ते हैं, तो वहां रघुवर दास के लिए परेशान करने वाली परिस्थितियां पैदा होंगी. इसकी कई बड़ी वजहें हैं. पर सबसे बड़ी वजह यह होगी कि जहां सरयू राय लंबे समय से भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ते रहे हैं.

वहीं रघुवर दास हाल के वर्षों में भ्रष्टाचार के आरोपियों को संरक्षण देने और भ्रष्टाचार, यौन शोषण जैसे आरोपों से घिरे नेताओं (ढ़ुल्लू महतो, भानू प्रताप शाही, शशिभूषण मेहता) के पैरोकार के रूप में सामने आये हैं.

इसे भी पढ़ें- #Jamshedpur: जमशेदपुर में एसीबी ने सिंचाई विभाग के मुख्य अभियंता के घर की छापेमारी, 2.44 करोड़ रुपये बरामद, जमीन और फ्लैट के दस्तावेज भी मिले

इन मुद्दों को उठाने की कोशिश करेंगे सरयू

सरयू राय चुनाव के दौरान भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाने की कोशिश करेंगे. और अगर वह इसमें सफल हुए तो रघुवर दास को नुकसान उठाना पड़ेगा. सरयू राय मैनहर्ट का मुद्दा भी उठाने की कोशिश करेंगे, तब पूरे झारखंड में भाजपा के सीएम फेस को लेकर दिक्कतें होंगी.

भाजपा को एक दूसरा नुकसान यह होगा कि रघुवर दास अपने क्षेत्र में ही फंस कर रह जायेंगे. क्योंकि जैसी चर्चा है, इस परिस्थिति में विपक्ष अपने उम्मीदवार वापस भी ले सकता है.

सरयू राय का बयान मीडिया में आया है उन्हें पार्टी पर विश्वास है. इसलिए उन्होंने जमशेदपुर पश्चिमी से चुनाव लड़ने के लिए नामांकन पत्र खरीदा है. दूसरी परिस्थिति में अगर पार्टी उन्हें टिकट नहीं देती है, तो वह अपने विवेक से फैसला लेंगे. उनके करीबी बताते हैं कि अपने विवेक के तहत ही उन्होंने जमशेदपुर पूर्वी से टिकट लिया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like