न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सरकार के फैसले से सेंसेक्स 560 अंक नीचे, निवेशकों के दो लाख करोड़ स्वाहा

कारोबार के अंत में सेंसेक्स 560.45 अंक टूटकर 38,337 के स्तर पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी 117.65 अंकों की गिरावट के साथ 11,419.25 के स्तर पर बंद हुआ.

52

Numbai :  सरकार के एक फैसले से बाजार में चौतरफा बिकवाली हुई. इस वजह से शुक्रवार को घरेलू शेयर बाजार भारी गिरावट के साथ बंद हुआ. विदेशी निवेशकों द्वारा बाजार में बिकवाली से कारोबार के अंत में सेंसेक्स 560.45 अंक टूटकर 38,337 के स्तर पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी 117.65 अंकों की गिरावट के साथ 11,419.25 के स्तर पर बंद हुआ.

बाजार में बाजार में बड़ी गिरावट से निवेशकों को बड़ा झटका लगा है. एक दिन में निवेशकों के 2.08 लाख करोड़ रुपये डूब गये.. गुरुवार को बीएसई पर लिस्टेड कुल कंपनियों का मार्केट कैप 1,47,46,534.89 करोड़ रुपये था. वहीं आज यह 2,08,149.77 करोड़ रुपये घटकर 1,45,38,385.12 करोड़ रुपये हो गया.

JMM

बाजार का यह स्तर दो महीने का निचला स्तर है

बाजार का यह स्तर दो महीने का निचला स्तर है. सेंसेक्स 30 के 26 शेयरों में कमजोरी रही है. निफ्टी 50 के 43 शेयर लाल निशान में रहे. एक्सपर्ट्स की मानें तो एफपीआई पर सरचार्ज को लेकर भी निराशा हाथ लगी है, जब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को कहा था कि विदेशी निवेशक टैक्स पर बढ़े हुए सरचार्ज से छूट चाहते हैं तो कंपनी के तौर पर रजिस्ट्रेशन कर निवेश कर सकते हैं.

एक्सपर्ट के अनुसार  इस वजह से भी बाजार के सेंटीमेंट बिगड़े हैं. वहीं कंपनियों के तिमाही नतीजे अनुमान से बेहद कमजोर आ रहे है. इसीलिए विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार में तेज बिकवाली की है.

शेयर बाजार में गिरावट बढ़ने की आशंका

एसकोर्ट सिक्योरिटी के रिसर्च हेड आसिफ इकबाल के अनुसार  इस फैसले से शेयर बाजार के सेंटीमेंट पर निगेटिव असर होगा. ऐसे में शेयर बाजार में गिरावट बढ़ने की आशंका है. वहीं, म्यूचुअल फंड में निवेश करने वालों पर भी इसका असर होगा. आसिफ के अनुसार मौजूदा समय में अच्छी बात म्यूचुअल फंड की ओर से शेयर बाजार में निवेश बढ़ना है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

निवेशकों को फिलहाल शेयर बाजार में अच्छी फंडामेंटल और गुड गवर्नेंस वाली कंपनियों के शेयर में पैसा लगाना चाहिए. वहीं, म्यूचुअल फंड में एसआईपी के जरिये निवेश को फिलहाल रोकना नहीं चाहिए. लेकिन पोर्टफोलियो में सरकारी बॉन्ड्स वाली स्कीमों को शामिल कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ेंःभाई के खिलाफ IT की कार्रवाई से भड़की मायावती, BJP पर बेनामी संपत्ति के बल पर चुनाव जीतने का लगाया आरोप

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like