न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बेघरों के लिए बने आश्रय गृह होंगे हाइटेक, रिम्स परिसर से मेयर ने की शुरुआत

83

Ranchi : रांची नगर निगम क्षेत्र के अंतर्गत बने हुए सभी आश्रय गृह अब आधुनिक तरीके से हाईटेक बनने जा रहे हैं. अब इन आश्रय गृहों में रहनेवाले लोगों को हर तरीके की चीज मिलने लगेगी. इसमें कंबल से लेकर गद्दा, रूम हीटर व मच्छरदानी शामिल हैं. इसी कड़ी में रविवार को मेयर आशा लकड़ा ने निगम द्वारा रिम्स परिसर में बने हाइटेक आश्रयगृह का उद्घाटन किया. इस दौरान मेयर ने निगम के अधीन बने सभी 12 आश्रयगृहों को हाइटेक करने की घोषणा की. कहा कि शहर में रहनेवाले ऐसे लोग, जिनके पास रहने का अपना ठिकाना नहीं है, वे यहां रात्रि विश्राम कर सकते हैं. इस अवसर पर डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय, नगर आयुक्त मनोज कुमार, अपर नगर आयुक्त गिरिजा शंकर प्रसाद, उपनगर आयुक्त संजय कुमार आदि उपस्थित थे.

नहीं होगी आश्रयगृह में किसी चीज की कमी

उद्घाटन के दौरान मेयर आशा लक़ड़ा ने कहा कि इस आश्रयगृह में रहनेवाले लोगों को किसी चीज की कमी नहीं होगी. यहां 18 बेड लगाये गये हैं, जिसमें कंबल से लेकर गद्दा, रूम हीटर व मच्छरदानी तक दी गयी है. यहां रहनेवाले लोगों का सामान चोरी न हो जाये, इसके लिए बेड के ही निचले हिस्से में एक लॉकर जैसा बक्सा भी बनाया गया है.

JMM

सीसीटीवी कैमरा से होगा लैस, पीसीआर टीम करेगी निरीक्षण

Related Posts

#JharkhandElection: दूसरे चरण की वोटिंग शुरू, 20 सीटों पर हो रहा मतदान

मंत्री सरयू राय ने भी वोट दिया और इस दौरान उन्होंने सीएम रघुवर दास पर निशाना साधा.

सभी आश्रय गृहों के हाइटेक होने की बात सिटी मिशन मैनेजर विकास कुमार ने बताया कि निगम के 12 आश्रयगृहों के प्रवेश द्वार के समीप सीसीटीवी कैमरा भी लगाया जायेगा, ताकि संदिग्ध लोगों का जमावड़ा यहां न लगे. इसके साथ ही इस हाइटेक आश्रयगृह में रहनेवाले लोगों को किसी प्रकार की परेशानी न हो, इसके लिए दिन भर में दो बार पीसीआर की टीम यहां का निरीक्षण करेगी. यह निरीक्षण सुबह व शाम को किया जायेगा. साथ ही गृहों में कोई गड़बड़ी न हो, इसके लिए निगम के सिटी मिशन मैनेजर व एन्फोर्समेंट टीम सप्ताह में तीन दिन इसकी जांच करेगी.

करना पड़ा विरोध का सामना

इस दौरान उद्घाटन करने पहुंचे मेयर व डिप्टी मेयर को रिम्स के फुटपाथ दुकानदारों के आक्रोश का भी सामना करना पड़ा. इन दुकानदारों ने मांग रखी कि निगम की टीम उन्हें बेवजह परेशान करने का काम करती है. जब मन चाहा उनकी दुकानों को उजाड़ दिया, लेकिन जब उन्हें बसाने की बात करें, तो निगम की तरफ से कोई पहल नहीं की जाती है. उनकी मांग पर अधिकारियों ने कहा कि पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल निगम पहुंचे. उन्हें बसाने को लेकर ठोस कदम उठाया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- सरकार की सहयोगी पार्टी आजसू ने बीजेपी के खिलाफ उगली आग, कहा- हर मोर्चे पर फेल हुई है बीजेपी सरकार

इसे भी पढ़ें- मंडल डैम योजना भाजपा का चुनावी स्टंट, झारखंड नहीं, बिहार होगा लाभान्वित : हेमंत सोरेन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like