न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बीजेपी पर सिद्धू की रंगभेद टिप्पणी, कहा- काले अंग्रेजों से देश को निजात दिलाओ

815

Indore: लोकसभा चुनाव के आखिर दौर में चुनावी प्रचार का शोर का है. जनता को लुभाने में नेताओं की जुबान अक्सर फिसलती है. अब कांग्रेस नेता और पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू अपने एक बयान को लेकर चर्चा में हैं. उन्होंने भाजपा पर रंगभेद टिप्पणी की है.

‘काले अंग्रेजों से देश को निजात दिलाओ’

कांग्रेस के लिए प्रचार कर रहे सिद्धू कई बार अपने बयानों से खुद के लिए और पार्टी के लिए मुसीबत खड़ा कर जाते हैं. इंदौर में कांग्रेस प्रत्याशी के लिए वोट मांग रहे नवजोत सिंह सिद्धू बीजेपी पर खूब बरसे.

JMM

इसे भी पढ़ेंःफिसड्डी निकले नौकरी वाले JPSC के 50 विज्ञापन, सिर्फ फॉर्म भरवाया लेकिन युवा अब भी बेरोजगार

और कहा कि कांग्रेस ने देश को गोरे अंग्रेजों से आजादी दिलाई. बीजेपी पर हमला करते हुए चुनावी सभा में उन्होंने कहा कि इंदौर वाले इस देश को काले अंग्रेजों से निजात दिलाएंगे.

पंकज संघवी के लिए वोट मांगते हुए पंजाब सरकार में मंत्री सिद्धू ने कहा, “कांग्रेस ही वो पार्टी जिसने देश को आजादी दिलाई, ये मौलाना आजाद और महात्मा गांधी की पार्टी है. इन्होंने गोरों से आजादी दी थी और तुम इंदौर वालो अब काले अंग्रेजों से इस देश को निजात दिलाओगे.” बता दें कि इंदौर में सातवें चरण यानी 19 मई को वोट डाले जायेंगे.

दूसरे बयान को लेकर आयोग का नोटिस

एक ओर अपने बयान को लेकर सिद्धू फिर सुर्खियों में हैं. वहीं एक दूसरे बयान को लेकर चुनाव आयोग ने नोटिस भेजा है. कांग्रेस नेता को जारी कारण बताओ नोटिस के लिए एक दिन में जवाब देना है.

चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ कथित रूप से अपमानजनक टिप्पणी करके प्रथम दृष्टया आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने के लिए कांग्रेस नेता सिद्धू को शुक्रवार को एक नया कारण बताओ नोटिस जारी किया.

आयोग को भाजपा से शिकायत मिली थी कि सिद्धू ने 29 अप्रैल को मध्यप्रदेश में एक चुनावी रैली के दौरान प्रधानमंत्री मोदी के बारे में अपमानजनक टिप्पणी की थी.

इसे भी पढ़ेंःमार्च, अप्रैल 2019 में 3,600 करोड़ से अधिक के चुनावी बॉन्ड बेचे गए : RTI

उन्होंने कथित तौर पर प्रधानमंत्री पर राफेल विमान सौदे में पैसा बनाने का आरोप लगाया था. सिद्धू ने इसके साथ ही मोदी पर यह भी आरोप लगाया था कि उन्होंने अमीरों को राष्ट्रीयकृत बैंकों को लूटने के बाद देश से भागने की अनुमति दी.

इससे पहले आयोग ने अप्रैल में सिद्धू पर 72 घंटों के लिए प्रचार करने पर रोक लगायी थी. आयोग ने सिद्धू पर यह कार्रवाई मुस्लिम समुदाय को कथित तौर पर यह चेतावनी देने के लिए की थी कि बिहार में उनके वोटों को विभाजित करने के प्रयास किए जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंः‘हुआ तो हुआ’ बयान पर सैम पित्रोदा ने माफी मांगी, कहा- मेरी हिंदी अच्छी नहीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like