न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड के ऐसे छह चर्चित हत्याकांड जिसकी गुत्थी अबतक सुलझा नहीं पायी राज्य की जांच एजेंसियां

1,267

Saurav Singh

Ranchi: रांची निर्भया कांड में आरोपी राहुल रॉय की गिरफ्तारी के बाद उम्मीद की जा रही है कि इस घिनौने कांड का पर्दाफाश होगा. लेकिन राज्य में छह ऐसी मर्डर मिस्ट्री है, जो अखबारों की सुर्खियां तो बनीं, लेकिन राज्य की जांच एजेंसियां मामले का खुलासा अब तक नहीं कर पायी हैं.

इसे भी पढ़ेंःनिर्भया हत्याकांड: पांच दिनों की सीबीआइ रिमांड पर आरोपी राहुल रॉय, खुलेंगे कई राज

इन छह बहुचर्चित हत्याकांड का खुलासा करने में राज्य की पुलिस और सीआइडी अबतक असफल रही है. जहां राजधानी रांची में हुए बहुचर्चित निर्भया हत्याकांड में झारखंड पुलिस और सीआइडी के हाथ कुछ नहीं लगा और दोनों ने अपने हाथ खड़े कर दिए.

Trade Friends

इसके बाद जांच की जिम्मेवारी सीबीआइ को दी गई और सीबीआइ ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर राज्य की जांच एजेंसियों की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े कर दिये हैं.

इस तरह की सिर्फ यही एक घटनाएं नहीं है. इसके अलावा विदिशा हत्याकांड, शोभा हत्याकांड,शुभम महतो हत्याकांड, अफसाना परवीन हत्याकांड और विनय महतो हत्याकांड की सीआइडी और राज्य पुलिस जांच कर रही है, लेकिन अब तक इन सभी मामलों में जांच पूरी नहीं हो पायी है.

1- निर्भया हत्याकांड (रांची)

16 दिसंबर 2016 को बूटी बस्ती में रेप के बाद छात्रा निर्भया की हुई निर्मम हत्याकांड को करीब ढाई साल हो गये हैं, लेकिन इस मामले में अभी तक पुलिस को कोई सफलता हाथ नहीं लगी है. बूटी बस्ती में रहकर बीटेक की पढ़ाई करने वाली छात्रा की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गयी थी.

फिर उसके शव को तेजाब से जलाने का प्रयास किया गया था. लेकिन अब तक इस हत्‍याकांड का खुलासा न तो झारखंड पुलिस, ना ही सीआइडी कर पायी.

राज्य की जांच एजेंसियों की असफलता के बाद निर्भया हत्याकांड मामले की जांच की जिम्मेदारी सीबीआइ को सौंपी गई. सीबीआइ ने निर्भया हत्याकांड के आरोपी राहुल रॉय को गिरफ्तार कर लिया है.

इसे भी पढ़ेंःपुलिस अफसर की गाड़ी में घूमता है और चेंबर में बैठता है कुख्यात अपराधी बिट्टू मिश्रा

2- विनय महतो हत्याकांड (रांची)

रांची स्थित सफायर इंटरनेशनल स्कूल परिसर में 4 फरवरी 2016 की रात स्कूल के छात्र विनय महतो की हत्या हुई थी. इस केस में पुलिस जांच से हाईकोर्ट संतुष्ट नहीं है. हाईकोर्ट ने तीन साल से इस मामले की जांच कर रही रांची पुलिस की कार्यप्रणाली पर नाराजगी जताते हुए चार हफ्तों के भीतर एफएसएल की जांच रिपोर्ट मांगी है.

जस्टिस एके गुप्ता की कोर्ट ने कहा कि अगर पुलिस 24 जुलाई तक एफएसएल की रिपोर्ट नहीं देती है तो कोर्ट अपना फैसला सुना देगी. इस मामले की जांच सीबीआइ को भी सौंपी जा सकती है. विनय के पिता मनबहावन महतो की याचिका पर कोर्ट ने पुलिस को यह निर्देश दिया.

SGJ Jewellers

बता दें सफायर इंटरनेशनल स्कूल के छात्र विनय महतो की हत्या के मामले में पुलिस ने शिक्षक दंपति और उनके बच्चे को जेल भेज दिया था, लेकिन बाद में पता चला है कि इन लोगों की मामले में संलिप्तता थी ही नहीं.

3- शुभम महतो हत्याकांड (चाईबासा)

चाईबासा जिले के सिदो-कान्‍हू शिक्षा निकेतन, कराइकेला के कक्षा तीन के छात्र शुभम महतो की हत्या के छह माह बीत जाने के बाद भी हत्यारों का पुलिस पता नहीं लगा पायी है.

शुभम महतो की हत्या की बाद आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर लोगों ने प्रदर्शन भी किया था. इस मामले को विधानसभा में शशि भूषण सामड़ के द्वारा उठाया भी गया था. इसके बाद मामले की जांच की जिम्मेवारी सीआइडी को दे दी गई थी.

हत्यारों की सूचना देने वाले को 50 हजार रुपये इनाम देने की घोषणा भी गई थी. लेकिन अब तक हत्यारे का पता नहीं चल पाया है.

Related Posts

इसे भी पढ़ेंःसरायकेला में मॉब लिंचिंगः नफरत की आग ने आपके अपनों को हत्यारा बना ही दिया !

उल्लेखनीय है कि तीसरी के छात्र शुभम महतो के साथ हत्या से पूर्व अप्राकृतिक यौनाचार हुआ था. इसकी पुष्टि तत्कालीन एसपी चंदन झा ने भी की थी.

शुभम महतो का शव 5 दिसंबर 2018 को सिदो-कान्‍हू शिक्षा निकेतन प्रांगण के बगल में बरामद हुआ था. छात्र 1 दिसंबर से लापता था. उसका अधजला शव 5 दिसंबर को विद्यालय की चाहरदीवारी के बाहर से बरामद हुआ था.

इस संबंध में कराईकेला थाना कांड संख्या 20/18 दिनांक 05.12.18, आइपीसी की धारा 302/ 201/ 120 बी के तहत मामला दर्ज कर अनुसंधान शुरू किया गया था.

4- विदिशा हत्याकांड (रांची)

छह साल पहले 10वीं की छात्रा विदिशा की हत्या की गुत्थी आजतक अनसुलझी है. 13 सितंबर 2013 को बरियातू थाना क्षेत्र स्थित हाईक्यू इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ने वाली 10 वीं की छात्रा विदिशा राय की हत्या हुई थी. मामले की जांच की सीआइडी को सौंपी गई थी.

काफी समय बीत जाने के बाद भी जब सीआइडी को कोई सफलता नहीं मिली, फिर से दुबारा 2019 जनवरी के आखिरी दिनों सीआइडी ने एसआइटी का गठन किया गया है.

लेकिन इसकी जांच की रफ्तार अभी भी सुस्त है. बड़ा सवाल ये है कि क्या एसआइटी की टीम बहुचर्चित विदिशा हत्याकांड का खुलासा कर सकेगी. इस मामले में पिछले 6 साल से कातिल की तलाश है.

5- अफसाना परवीन हत्याकांड (रांची)

राजधानी के पुंदाग में रहनेवाली 20 वर्षीय अफसाना परवीन की हत्या को एक साल से ज्यादा का वक्त हो चुका. लेकिन अभी भी हत्यारे का अभी तक कोई सुराग नहीं मिल पाया है. मारवाड़ी वीमेंस कॉलेज में बीए पार्ट-2 की छात्रा अफसाना परवीन 6 अप्रैल को लापता हो गयी थी.

8 अप्रैल को लोहरदगा के नगजुआ गांव से उसकी लाश अधजली अवस्था में मिली थी. इस मामले में अभी तक हत्यारे के बारे में पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लगा है.

अफसाना परवीन 6 अप्रैल को फॉर्म भरने के लिए दिन के 11:30 बजे पुंदाग स्थित अपने घर से मारवाड़ी कॉलेज के लिए निकली थी. शाम तक वह घर नहीं पहुंची. जिसके बाद परिजनों ने खोजबीन शुरू की थी. 8 अप्रैल को अफसाना परवीन की हत्या कर दी गयी और उसकी लाश जला कर कैरो थानांतर्गत नगजुआ गांव में फेंक दी गयी थी. इस मामले की जांच लोहरदगा जिले के कैरो थाना की पुलिस कर रही है.

6- शोभा हत्याकांड (रामगढ़)

राजधानी की विदिशा और अफसाना परवीन मर्डर मिस्ट्री की तरह रामगढ़ में शोभा की हत्या की गुत्थी भी अनसुलझी है. घटना के एक महीने बीत जाने के बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं.

गौरतलब है कि 22 मई को शोभा की जली हुई लाश उसके घर के आंगन से मिली थी. घटना उस वक्त हुई थी जब वो घर पर अकेली थी. इस हत्याकांड के दोषियों की गिरफ्तारी के लिए जहां रामगढ़ में जगह-जगह धरना प्रदर्शन किया गया था.

वहीं रामगढ़ में एकदिवसीय बंदी भी बुलायी गयी थी. इसके बावजूद भी हत्या की गुत्थी सुलझ नहीं पायी है.

इसे भी पढ़ेंःचमकी बुखार पर बिहार और केंद्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, सात दिनों में मांगा जवाब

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like