न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बढ़ती मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर बोलीं वृंदा करातः राज्य को ‘लिंच-खंड’ के नाम से पुकारा जा रहा

918

लोकसभा चुनाव परिणामों की हुई समीक्षा, पार्टी को मजबूत करने की होगी कोशिश

वामदल एक साथ करेंगे विधानसभा सीटों की घोषणा- करात

JMM

Ranchi: झारखंड को लोग अब ‘लिंच खंड’ के नाम से पुकार रहे हैं. राज्य में जिस तरह से मॉब लिंचिग की घटनाएं हो रही है,वो निदंनीय है. राज्य की जनता इसमें दोषी नहीं है.

जब से राज्य में भाजपा की सरकार बनी है, तब से कभी गौ रक्षक, कभी लव जिहाद और समुदाय के नाम पर लिंचिंग की घटनाएं हो रही है.

उक्त बातें मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की पोलित ब्यूरो सदस्य वृंदा करात ने कही. वे सत्य भारती में पार्टी की ओर से आयेाजित प्रेस वार्ता को संबोधित कर रही थी.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

आरएसएस घटक ने चुनाव परिणाम को लाइसेंस समझ लिया है. रिजल्ट आते ही इस तरह की घटनाओं को अंजाम देते हैं. गरीबों पर भगवा का स्टांप लगाया जा रहा है. जिस प्रकार से मॉब लिंचिंग की घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है. इससे राज्य का अपमान हो रहा.

इसे भी पढ़ेंःएडवोकेट जनरल से लीगल एडवाइस लेने के बाद देवघर पुलिस करेगी प्रदीप यादव पर कार्रवाई

चुनाव परिणामों की समीक्षा 

लोकसभा चुनाव के परिणामों पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि केंद्रीय कमेटी ने चुनाव परिणामों की समीक्षा की. उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव परिणाम से पार्टी को धक्का लगा है. फिर भी आने वाले चुनाव के लिये पार्टी मेहनत करेगी.

उन्होंने बताया कि देश भर में पार्टी कार्यकर्ताओं में कमजोरियां आयी है. ऐसे में इस बार हर स्तर से लोगों से संपर्क बनाया जायेगा. जिन लोगों से संपर्क छूटा है, उन्हें भी वापस पार्टी से जोड़ा जायेगा. समीक्षा की बात करते हुए उन्होंने कहा कि समीक्षा में जनसंपर्क में कुछ कमियां पायी गयी.

वहीं संसदीय लोकतंत्र में बदलाव के लिये लोगों में जागरूकता की कमी भी थी. उन्होंने कहा कि पिछले चुनाव में सरकार ने कुछ संस्थाओं के संवैधानिक कार्यों को बाधित किया. आने वाले चुनाव में जनता की इसका जवाब देगी.

ईवीएम को लेकर किसी निष्कर्ष पर पार्टी अभी नहीं पहुंची

वृंदा करात ने कहा कि देश भर में ईवीएम को लेकर तरह-तरह की बातें हो रही हैं. कई पार्टिंयों ने ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से चुनाव कराने की मांग की है. लेकिन सीपीआइएम अभी इस निष्कर्ष पर नहीं पहुंची है कि चुनाव बैलेट पेपर से हो या ईवीएम से.

बंगाल का जिक्र करते हुए इन्होंने कहा कि बंगाल अपराध रूकने का नाम नहीं ले रहा. भाजपा को जहां जीत की उम्मीद कम होती है, वहां अंत में इसी तरह की घटनाएं होने लगती है. भाजपा की अपराध भरी नीतियों के कारण ऐसी घटनाएं हो रही है.

इसे भी पढ़ेंःरिपोर्टः हाल के दिनों तेजी से बढ़ा हेट क्राइम, बीजेपी शासित राज्यों में 66% घटनाएं

राष्ट्रपति के भाषण तक सरकार तय कर रही

मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से हुए बच्चों की मौत का जिक्र करते हुए माकपा नेता ने कहा कि मोदी सरकार की चुप्पी तो समझ आती है. लेकिन राष्ट्रपति के भाषण तक में इसका जिक्र नहीं होना, खेद का विषय है.

वृंदा ने कहा कि अब जनता को समझने की जरूरत है. सरकार ही राष्ट्रपति के भाषण लिख रही है. तभी तो इतनी बड़ी घटना देश में हो रही है और राष्ट्रपति के मुख से एक शब्द नहीं निकलें. जबकि उनका दायित्व पूरे देश में है.

एक साथ विधानसभा सीटों की घोषणा की जायेगी

विधानसभा चुनाव की नीतियों की जानकारी देते हुए राज्य सचिव गोपीकांत बख्शी ने कहा कि सीपीआइएम की ओर से दस सीटों को चिन्हित किया गया है. पहले 13 सीटें चिन्हित की गयी थी. बैठक कर अन्य तीन सीटें भी तय की जायेगी.

लेकिन इन सीटों की घोषणा अन्य वामदलों के साथ की जायेगी. उन्होंने कहा कि इस चुनाव में भी वामदल एकता दिखायेगी. महागठबंधन के साथ परिस्थितियां बनने पर पार्टी विचार करेगी.

इसे भी पढ़ेंःमहामारियों से निपटने की सरकारों की तैयारी हमेशा निराशा ही बढ़ाती है

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like