न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मृत पारा शिक्षकों के आश्रितों को एक-एक लाख रुपये देगी राज्य सरकार

134
  • पारा शिक्षकों की मांगों पर विचार के लिए शिक्षा मंत्री की अध्यक्षता में उच्चस्तरीय कमिटी का गठन

Ranchi : पारा शिक्षकों की मांगों पर विचार के लिए उच्चस्तरीय कमिटी का गठन किया गया है. कमिटी का गठन मुख्यमंत्री ने शिक्षा मंत्री की अध्यक्षता में किया. वहीं, मृत पारा शिक्षकों के आश्रितों को एक-एक लाख रुपये की सहायता राशि देने का भी निर्णय लिया गया है. शिक्षा मंत्री नीरा यादव के नेतृत्व में गठित कमिटी में विकास आयुक्त डीके तिवारी, वित्त आयुक्त सुखदेव सिंह और शिक्षा सचिव एपी सिंह को शामिल किया गया है.

कमिटी को सीएम का निर्देश- पारा शिक्षकों की मांगों पर विचार कर विधिसम्मत अनुशंसा करें

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि उच्चस्तरीय कमिटी पारा शिक्षकों के मानदेय बढ़ाने, टेट पास अभ्यर्थियों की नियुक्ति के लिए नयी नियमावली बनाने पर विचार करेगी. मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि पारा शिक्षकों की अन्य मांगों पर भी उच्चस्तरीय कमिटी विचारोपरांत विधिसम्मत अनुशंसा करे. हाल के दिनों में कई पारा शिक्षकों के निधन की सूचना राज्य सरकार को प्राप्त हुई है. मुख्यमंत्री ने सभी के परिजनों को अपने विवेकाधीन कोष से एक-एक लाख रुपये देने की घोषणा की है. साथ ही कहा कि नियमावली बनने के बाद पारा शिक्षक कल्याण कोष से आगे भी मृत शिक्षकों के आश्रितों को आर्थिक मदद की जायेगी.

JMM
Related Posts

#Jharkhand Election : तीसरे चरण में रांची संसदीय सीट है हॉट, सीटिंग सीटों को बचाना गठबंधन के लिए बड़ी चुनौती

तीसरे चरण में कांग्रेस 9, जेएमएम 6 और आरजेडी के 2 प्रत्याशी हैं चुनावी मैदान में

सीएम ने पारा शिक्षकों से की काम पर लौटने की अपील

मुख्यमंत्री ने सभी पारा शिक्षकों से काम पर लौटने की अपील की है. साथ ही कहा कि सरकार पारा शिक्षकों की मांगों पर गंभीर है और उनके हितों का हरसंभव ख्याल रखा जायेगा. गौरतलब है कि सेवा स्थायीकरण, वेतनमान और अन्य मांगों को लेकर राज्यभर के करीब 67 हजार पारा शिक्षक विगत 16 नवंबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं.

इसे भी पढ़ें- डुमरी के जामताड़ा की जमीन का मामला गरमाया, आदेश के बाद भी नहीं हुई मुआवजे की वसूली  

इसे भी पढ़ें- स्कूलों को मिलना था 85 करोड़ का अनुदान, विभाग की करनी से लैप्स कर गयी पूरी राशि

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like