न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

भाजपा सरकार के 5 साल के कार्यकाल से छात्र, नौजवान, किसान, मजदूर, किसान सब हैं परेशानः बाबूलाल मरांडी

जमुआ के पूर्व विधायक व झामुमो नेता चन्द्रिका महथा की झाविमो में वापसी

259

Ranchi: जमुआ के पूर्व विधायक व झामुमो नेता चन्द्रिका महथा ने अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ अपनी पुरानी पार्टी झाविमो में वापसी की. पार्टी मुख्यालय, रांची में आयोजित मिलन समारोह में पूर्व विधायक श्री महथा अपने पिछले दिनों की भूल को स्वीकार करते हुए पार्टी सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी की उपस्थिति में झाविमो में शामिल हुए. मौके पर उपस्थित महथा को मरांडी ने फूल-माला एवं पट्टा पहना कर तथा सदस्यता रसीद देकर पार्टी में शामिल कराया.

Trade Friends

इसे भी पढ़ें – भारत में भी मंदी के आसार! पीएम मोदी ने वित्त मंत्री सीतारमण से की मंत्रणा

सदस्यता ग्रहण के उपरांत समारोह को सम्बोधित करते हुए पार्टी सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने कहा कि चन्द्रिका महथा के पार्टी में फिर से योगदान करने से पार्टी और मजबूत हुई है. श्री महथा ने पार्टी के कारवां को आगे बढ़ाया है. मरांडी ने कहा कि राज्य की राजनीति बदलनेवाली है. झाविमो का कारवां फिर से चल चुका है. झारखंड की बेहतरी चाहनेवालों की पार्टी पर आस्था बढ़ी है. आनेवाले दिनों में पार्टी सूबे की बड़ी राजनीतिक धुरी बनेगी. उन्होंने  खरीद-फरोख्त की राजनीति पर भाजपा को आड़े हाथ लेते हुए दावे के साथ कहा कि इस बार बीजेपी वैसे स्थिति में नहीं रहेगी कि दूसरे दलों में तांक-झांक कर सके. भाजपा की गंदी राजनीति को जनता समझ चुकी है. इस बार के चुनाव स्थानीय मुद्दों पर होंगे. जनता राज्य के बेहतर मुख्यमंत्री के लिए वोट करेगी. रघुवर सरकार के 5 वर्षों के शासन में छात्र, नौजवान, किसान, मजदूर, किसान सब परेशान हैं. किसानों की मौत पर भी सरकार का मौन नहीं टूट रहा. किसानों द्वारा आत्महत्या की सिलसिला जारी है. कागजी विकास के सहारे सरकार जनता को दिग्भ्रमित कर रही है. धरातल पर भयावह स्थिति है. लोगों को राशन कार्ड एवं वृद्धा, विधवा पेंशन के लिए भी रिश्वत देनी पड़ रही है. इस सरकार से जनहित के कार्य की उम्मीद बेमानी है.

WH MART 1

इसे भी पढ़ें – धनबाद : विधानसभा चुनाव को टारगेट कर शह-मात का खेल शुरू, आजसू के खाते में जा सकती है सिंदरी

पूर्व विधायक चन्द्रिका महथा ने कहा कि 2014 में मुझसे जो भूल हुई थी उसका अहसास मुझे हो गया है. मैं उस भूल को स्वीकार करते हुए अपने पुराने घर में आया हूं. बाबूलाल मरांडी जैसे कुशल राजनैतिक व्यक्तित्व से दूर रह कर मैं काफी बेचैनी में था. पार्टी मुझे जो भी जिम्मेवारी देगी मैं निस्वार्थ भाव पार्टी के कारवां को आगे बढ़ाऊंगा.

इस अवसर पर पार्टी के केंद्रीय सचिव सरोज सिंह, सुरेश साव, डॉ आश्रिता कुजूर, सुनील गुप्ता, जितेंद्र वर्मा, मीडिया प्रभारी तौहीद आलम, आरएन सहाय, भूपेंद्र सिंह, सुचिता सिंह, नजीबुल्लाह खान सहित दर्जनों पार्टी पदाधिकारी उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें – हटियाः नवीन जायसवाल को लेकर बीजेपी में असमंजस, पुराने कार्यकर्ता पर पार्टी जता सकती है भरोसा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like