न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राज्य के सरकारी अस्पतालों में नहीं मिल रहा टेटनेस वैक्सीन, सात महीनों से बाधित है सप्लाई

मरीजों को टेटनेस की जगह टेटनेस डिप्थीरिया (टीडी) की दी जा रही दवाईयां, बाजार में भी नहीं है टेटनेस की दवाई

1,031

Ranchi: राज्य के सरकारी अस्पतालों में टेटनेस की दवाईयां नहीं मिल रही है. यह स्थिति सिर्फ राजधानी में नहीं बल्कि अन्य जिलों के सदर अस्पतालों की भी बनी है.

स्वास्थ्य कर्मियों ने बताया कि पिछले छह से सात महीने से राज्य में टेटनेस वैक्सीन की कमी है. सप्लाई पूरी तरह बंद है. जिससे मरीजों को टेटनेस की दवाई नहीं मिल रही.

इसे भी पढ़ेंःएक बज कर 35 मिनट पर  चंद्रयान-2 से लैंडर विक्रम अलग हुआ, चांद की ओर बढ़ा

Trade Friends

अधिकांश जिलों के स्वास्थ्य कर्मियों से बात करने से जानकारी मिली की वे टेटनेस के स्थान पर मरीजों को टीडी यानी टेटनेस डिप्थीरिया का वैक्सीन लगा रहे है.  ऐसे में जिन मरीजों को टेटनेस वैक्सीन की जरूरत है, उन्हें भी टीडी वैक्सीन देकर काम निकाला जा रहा है.

दुमका, लोहरदगा और रांची सदर अस्पताल के कुछ स्वास्थ्य कर्मियों ने बताया कि पिछले माह सदर अस्पताल प्रबधंन की ओर से खुद ही निजी स्तर पर टेटनेस वैक्सीन की पूर्ति की गयी. लेकिन अब फिर से बाजार में टेटनेस की दवाई नहीं मिल रही है. ऐसे में समस्या फिर से शुरू हो गयी है.

टेटनेस की जगह टीडी देने पर विवाद

राजधानी सदर अस्पताल के फार्मेसी केंद्र में जाने से जानकारी हुई कि अस्पताल में टेटनेस वैक्सीन का पूरा स्टॉक खत्म हो चुका है. जहां जरूरत होती है, वहां मरीजों को टीडी दिया जा रहा है. कुछ मामले ऐसे भी देखे गये जिसमें मरीजों और परिजनों के साथ नर्सों की बक झक की स्थिति बन गयी.

खुद नर्सों ने बताया कि टेटनेस वैक्सीन नहीं होने के कारण काफी समस्या हो गयी है. जबकि प्रत्येक दिन कम से कम 60 से 70 मरीज टेटनेस के लिये आते है.

Related Posts

राज्य शिक्षा परियोजना का आदेश: ई विद्यावाहिनी एप्प के जरिये जानकारी देने वाले शिक्षकों मिलेगा तीन सौ रुपये

आचार संहिता लागू होने के बाद से टैब की जगह मोबाइल फोन में एप्प से जानकारी दे रहे शिक्षक

इसे भी पढ़ेंःतिहाड़ जेल नहीं भेजे जायेंगे पी चिदंबरम ,सीबीआई की हिरासत में रहेंगे, गुरुवार को होगी सुनवाई

ऑपरेशन और गर्भवती महिलाओं के लिये टेटनेस की और भी जरूरत होती है. लेकिन इसकी सप्लाई ही पिछले सात महीने से राज्य में बंद है. इसकी तरह की समस्या दुमका समेत अन्य जिलों के नर्सों से जानने को मिली.

सप्लाई है बंद, खुले बाजार में भी है कमी

कुछ नर्सो ने बताया कि टेटनेस के लिये वर्तमान में कोई दूसरा विकल्प नहीं है. टीडी तो दिया जा रहा है. लोहरदगा सिविल सर्जन डॉ विजय कुमार ने जानकारी दी कि पिछले दिनों उन्होंने अस्पताल में अपने स्तर से टेटनेस वैक्सीन मंगाया.

डॉ विजय ने बताया कि मार्केट में टेटनेस की दवाई है ही नहीं. सप्लाई बंद है. जिससे ऐसी स्थिति बनी है.अस्पताल प्रबंधन अपने स्तर से ही इन दवाईयों की पूर्ति करते हैं.

लेकिन सप्लाई बंद होने के कारण अस्पतालों में टेटनेस नहीं मिल रहा. इस संबध में कुछ दवाई होल सेलरों से बात की गयी, जिससे जानकारी मिली की बाजार में भी टेटनेस की दवाईयां उपलब्ध नहीं है. ऐसे में अस्पतालों में भी ये सप्लाई नहीं हो रहा.

SGJ Jewellers

इसे भी पढ़ेंः600 रुपये की करीब 5 लाख साड़ियां, लागत 30 करोड़, वही कंपनी करेगी सप्लाई जिसका टर्न ओवर 1000 करोड़ 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like