न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड में तेजी से बढ़ रहा है साइबर अपराध, 2018 में सबसे अधिक 917 मामले हुए दर्ज

80

Ranchi : देश में कहीं भी साइबर अपराध हो तो उसमें झारखंड का नाम जरूर आता है. साइबर अपराध का गढ़ माने जाना वाला झारखंड में अब साइबर अपराध तेजी से बढ़ रहा है. झारखंड में साइबर अपराध किस तेजी से बढ़ रहा है. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पिछले 2 वर्ष की तुलना में वर्ष 2018 में नवंबर महीने तक सबसे अधिक 917 साइबर अपराध के केस दर्ज हुए है.

साइबर अपराधियों की गिरफ्तारी में पीछे

झारखंड में वर्ष 2016 में साइबर अपराध के 439 केस दर्ज हुए.  वर्ष 2017 में साइबर अपराध के 751 केस दर्ज हुए और वर्ष 2018 में नवंबर महीने तक से अपराध के 917 केस दर्ज हुए, जो कि पिछले 2 साल की तुलना में सबसे अधिक है. वहीं अगर साइबर अपराधियों की गिरफ्तारी की बात की जाए तो वर्ष 2016 में 215, वर्ष 2017 में 604 और वर्ष 2018 में 435 से अपराधियों को गिरफ्तार किया गया जो कि पिछले वर्ष की तुलना में काफी कम है.

Jmm 2

2018 में 144 साइबर अपराध केस का हो पाया निष्पादन

साइबर अपराध के निष्पादित हुए कांड की बात की जाए तो जहां 2016 में साइबर अपराध के 439 केस दर्ज हुए. उसमें 124 केस का निष्पादन किया गया. वर्ष 2017 में साइबर अपराध के 751 दर्ज हुए केस में से 146 केस का निष्पादन किया गया. वहीं वर्ष 2018 में साइबर अपराध के 917 केस दर्ज हुए, जिसमें सिर्फ 144 केस का ही निष्पादन हो पाया.

 150 से अधिक साइबर अपराध के गिरोह हैं सक्रिय

जानकारी के अनुसार पूरे झारखंड में साइबर अपराध के 150 गिरोह सक्रिय हैं. इनमें से कई गिरोहों को झारखंड पुलिस ने चिह्नित कर लिया है. हालांकि, झारखंड पुलिस के लिए ये गिरोह बड़ी चुनौती बनी हुई है. लेकिन पुलिस अब इनके सफाया करने के लिए सक्रिय दिख रही है. कई अपराधियों की संपत्ति जब्त करने की भी तैयारी चल रही है. साइबर क्राइम के ज्यादातर मामले एटीएम से जुड़े होते हैं. अपराधी बूढ़े-बुजूर्ग या महिलाओं को शिकार बनाते हैं. ये लोग एटीएम के बाहर अकेले में लोगों को शिकार बनाते हैं. बैंक अधिकारी बनकर फर्जी तरीके से लोगों का बैंक खाता खाली कर देते हैं. साइबर अपराध के गिरोह में 20 से 30 वर्ष के बीच के अपराधी शामिल होते हैं. जो साइबर अपराध की घटना का अंजाम देते हैं.

राज्यों की पुलिस कर चुकी है छापामारी

साइबर अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छत्तीसगढ़, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, हरियाणा, उत्तराखंड़ और महाराष्ट्र की पुलिस की टीम गिरिडीह, देवघर दुमका, जामताड़ा और हजारीबाग सहित कई अन्य जिलों में अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापामारी करने आ चुकी है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like