न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पीएम मोदी की सलाह का असर, अर्जुन मुंडा सहित कई मंत्री साढ़े नौ बजे पहुंच जाते हैं कार्यालय

13 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मंत्रियों से कहा था कि वे सभी सुबह साढ़े नौ बजे अपने-अपने कार्यालय पहुंचने की कोशिश करें.

66

NewDelhi > प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सलाह क् असर है कि कई मंत्री समय पर कार्यालय पहुंचने लगे हैं. बता दें कि 13 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मंत्रियों से कहा था कि वे सभी सुबह साढ़े नौ बजे अपने-अपने कार्यालय पहुंचने की कोशिश करें.  इसके अलावा उन्होंने कहा था कि घर से काम करने से बचें और दूसरों के लिए उदाहरण प्रस्तुत करें.

पीएम मोदी की सलाह मानते हुए केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने अपनी बैठकों के समय में बदलाव किया है, ताकि वह समय पर साढ़े नौ बजे तक कार्यालय पहुंच जायें वहीं उपभोक्ता मामलों के मंत्री राम विलास पासवान भी समय पर कार्यालय पहुंच रहे हैं और अपने अहम सचिवों के साथ सुबह की दैनिक बैठकें कर रहे हैं.  पहली बार केंद्रीय मंत्री बने अर्जुन मुंडा भी समय पर कार्यालय पहुंच रहे हैं.  वह कार्यभार ग्रहण करने के बाद से योजनाओं की समीक्षा पर काम कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःबेंगलुरु  : आरबीआई ने चेताया था, पर  कर्नाटक सरकार ने चुप्पी साध ली, और हो गया 15 हजार करोड़ का हलाल घोटाला

संसद सत्र के दौरान किसी भी तरह के दौरे पर न जायें

Trade Friends

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार मंत्री घरों से कार्यालय का काम करने से बच रहे हैं और समय पर कार्यालय पहुंच रहे हैं.  कुछ मंत्री ऐसे भी हैं जो पहले से ही समय पर कार्यालय आते रहे हैं और अभी भी उसी रूटीन का अनुसरण कर रहे हैं.  केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन जैसे मंत्री सुबह साढ़े नौ बजे से पहले मंत्रालयों में पहुंच रहे हैं.

नये केंद्रीय मंत्रियों में गजेंद्र शेखावत और कई जूनियर मंत्री रोजाना मंत्रालय शुरू से ही समय पर साढ़े नौ बजे पहुंच रहे हैं.  सूत्रों के  अनुसार  पासवान ने अपने विभाग को आदेश दिया है कि उनके कमरे में बड़ी स्क्रीन वाला डैशबोर्ड लगाया जाये, ताकि उन्हें जरूरी सूचनाएं मिलती रहें. नकवी का स्टाफ समय से पहले कार्यालय पहुंच जाता है और नकवी कार्यालय पहुंचने से पहले दस बजे तक अपने आवास पर लोगों से मिलते हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने सहयोगियों से कहा था कि 40 दिनों के संसद सत्र के दौरान किसी भी तरह के दौरे पर न जायें.    इसके लिए उन्होंने अपने गुजरात के मुख्यमंत्री कार्यकाल का उदाहरण दिया था. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि वह अधिकारियों के साथ समय पर कार्यालय पहुंच जाया करते थे, इससे दिन के लिए कार्य निर्धारित करने में मदद मिलती थी.  उन्होंने वरिष्ठ मंत्रियों से कहा था कि चुने ग, सांसदों से मिलने के लिए समय निकालें , क्योंकि मंत्री और सांसद में ज्यादा अंतर नहीं है.

इसे भी पढ़ेंः  सीजेआई ने कहा, पॉप्युलिस्ट ताकतों का उदय जूडिशरी के लिए चुनौती, जजों की नियुक्ति राजनीतिक दबाव से मुक्त हो

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like