न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुनिया भर में नए कोयला आधारित संयंत्रोंं के घटने का क्रम जारी, लेकिन भारत में अब भी मिल रही नए संयंत्रो को मंज़ूरी

78

Ranchi : एक नयी रिपोर्ट के अनुसार लगातार तीसरे साल 2018 में भी निर्माणाधीन कोयला आधारित पावर प्लांट के विकास में कमी आयी है. इस रिपोर्ट को ग्रीनपीस इंडिया, सीएरा क्लब और ग्लोबल एनर्जी मॉनिटर ने मिलकर तैयार किया है. यह रिपोर्ट ‘बूम एंड बस्ट: ट्रैकिंग ग्लोबल कोल प्लांट पाइपलाइन’ निर्माणाधीन पावर प्लांट के सर्वे का पांचवां संस्करण है.

इस रिपोर्ट में सामने आया है कि पिछले साल नए बने कोल पावर प्लांट में 20 प्रतिशत (53 प्रतिशत पीछले तीन साल में) गिरावट आयी है, वहीं नए बनने वाले प्लांट में 39 प्रतिशत (पीछले तीन साल में 84प्रतिशत) कमी हुई है और निर्माण से पहले वाले प्लांट में 24 प्रतिशत (69 प्रतिशत पीछले तीन साल में) की गिरावट दर्ज की गयी है. वहीं अमरीका में ट्रंप के लगातार कोयला आधारित ऊर्जा की वकालत करने के बावजूद वहां कोयला प्लांट को कम किया जा रहा है.

Jmm 2

इसे भी पढ़ें : मेकॉन ने काम करा कर एजेंसी को नहीं दिये 1.50 करोड़ रुपये

भारत और चीन में जहां 2005 से अबतक 85 प्रतिशत नये प्लांट लगे हैं. उसमें भी नए कोल प्लांट में रिकॉर्ड कमी हुई है, लेकिन फिर भी नये प्लांट प्रस्तावित हैं और उनकी मंज़ूरी दी जा रही है. साल 2018 में भारत ने कोल पावर से अधिक अक्षय ऊर्जा की क्षमता को बढ़ाया है.

17.6 गिगावाट ऊर्जा उत्पादन क्षमता में से 74 प्रतिशत  अक्षय ऊर्जा तकनीक से उत्पादित किया गया है. इसमें ज़्यादातर हिस्सा सोलर ऊर्जा है जो लगातार महंगे  होते जा रहे कोयला आधारित बिजली से सस्ता है. सोलर पर आयात कर और जीएसटी के बावजूद यह तेजी से बढ़ रहा है. ग्रीनपीस इंडिया के विश्लेषण में सामने आया है कि 65 प्रतिशत कोयला आधारित बिजली अक्षय ऊर्जा से ज़्यादा महंगा हो गया है.

Bharat Electronics 10 Dec 2019
Related Posts

पलामू : निर्वस्त्र अवस्था में महिला का शव बरामद, दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका

जानकारी के अनुसार महिला रामगढ़ प्रखंड अंतर्गत नावाडीह पंचायत क्षेत्र की निवासी थी.  महिला की पुत्री ने बताया कि उसकी मां सोमवार शाम चार बजे बाजार के लिए निकली थी

भारत सरकार के अनुसार, 40 गिगावट कोयला प्लांट आर्थिक रूप से घाटे का सौदा बन चुके हैं. साल 2018 में सिर्फ़ तीन गिगावाट नयी क्षमता वाले कोल प्लांट को मंज़ूरी दी गयी जबकि 2010 में यह 39 गिगावट था. अधिक्षमता और अक्षय ऊर्जा के सस्ते होते जाने के कारण कोयला आधारित संयंत्रों में निवेश घाटे का सौदा बन चुका है.

ग्रीनपीस इंडिया की पुजारिनी सेन ने कहा कि “थर्मल प्लांटों के अनुकूल बाज़ार न होने के बावजूद सरकारें नए थर्मल प्लाटों में पैसे खर्च रही हैं.” सेन ने आगे कहा, “इसी वर्ष फरवरी में आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी द्वारा खुर्ज़ा (यूपी) और बक्सर (बिहार) में दो पॉवर प्लांटों के लिए 11,089 करोड़ और 10,439 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं.

इसे भी पढ़ें : उपायुक्त ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए गठित विभिन्न कोषांगों की समीक्षा की

जब समूचा थर्मल ऊर्जा क्षेत्र गंभीर आर्थिक चुनौतियों का सामना कर रहा है, नए प्लांट बनाने की घोषणाएं जनता के पैसों की बर्बादी से ज्यादा कुछ नहीं है”.

पर्यावरण संस्था क्लाइमेट एजेंडा से जुड़े रवि शेखर कहते हैं, “यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि राज्य में प्रदूषण से हो रही गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं को दरकिनार करते हुए सरकार थर्मल पावर प्लांट को मंजूरी दे रही है.

खुर्जा थर्मल पॉवर प्लांट या कोई भी अन्य थर्मल पावर प्लांट लगाने में आने वाला खर्च अक्षय ऊर्जा संसाधनों की तुलना में दो गुना अधिक होगा. इसलिए यह बेहतर होगा कि सरकार अक्षय ऊर्जा संसाधनों पर ज्यादा ध्यान दे और देशभर में राष्ट्रीय स्वच्छ वायु योजना लागू करवाने के लिए प्रतिबद्धता दिखाए.”

इसे भी पढ़ें : पिठौरिया में वाहन चेकिंग के दौरान,फॉर्च्यूनर कार से 30 लाख रुपये बरामद

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like