न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जिस जंग में बादशाह की जान को ख़तरा न हो, उसे जंग नहीं राजनीति कहते हैं: सिद्धू

421

Chandigarh: भारत और पाकिस्तान के बीच उपजी तनाव की स्थिति के समय कांग्रेस नेता और पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने चाणक्य के एक कथन को ट्वीट किया है. सिद्धू के ट्वीट के अनुसार, ‘जिस जंग में बादशाह की जान को ख़तरा न हो, उसे जंग नहीं राजनीति कहते हैं ∼ चाणक्य.’ इस ट्वीट में उन्होंने सवाल उठाया, ‘नाकाम सरकारें युद्ध का सहारा लेती हैं. आप अपने खोखले राजनीतिक उद्देश्यों के लिए और कितने निर्दोष लोगों और जवानों का बलिदान लोगे.’ इससे पहले सिद्धू ने बीते गुरुवार को इस बात पर ज़ोर दिया कि सीमापार सक्रिय आतंकी संगठनों के संबंध में दीर्घकालिक समाधान खोजने के लिए बातचीत और कूटनीतिक दबाव अहम होगा.

वी हैव अ चॉइस

क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू ने ‘वी हैव अ चॉइस’ (हमारे पास विकल्प है) शीर्षक के दो पेज के बयान में कहा, ‘मैं अपने इस विश्वास के साथ खड़ा हूं कि सीमा के अंदर और इसके पार से संचालित आतंकी संगठनों की उपस्थिति और गतिविधियों का दीर्घकालिक समाधान खोजने में बातचीत और कूटनीति दबाव अहम भूमिका निभाएगा.’ उन्होंने कहा, ‘आतंक का समाधान शांति, विकास और प्रगति है, बेरोज़गारी, घृणा और भय नहीं.’ कांग्रेसी नेता ने यह बयान ऐसे समय दिया जब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने बुधवार को शांति की बात की थी और सीमा पर बढ़ते तनाव के बीच भारत को बातचीत का न्योता दिया था. साथ ही उन्होंने वायुसेना के पायलट विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को रिहा करने का ऐलान किया था. उन्होंने कहा कि वह इस सिद्धांत के साथ मज़बूती से खड़े हैं कि कुछ लोगों की गतिविधियों के लिए पूरे समुदाय को ज़िम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता.

Trade Friends

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को पाकिस्तान के एक आतंकी संगठन के आत्मघाती हमले में 40 सीआरपीएफ जवानों के शहीद होने की घटना की कड़ी निंदा करते हुए सिद्धू ने सवाल किया था कि क्या कुछ लोगों की गतिविधियों के लिए पूरे देश को ज़िम्मेदार ठहराया जा सकता. उनकी इस टिप्पणी की कई नेताओं ने आलोचना की थी.

(द वायर से साभार)

इसे भी पढ़ें – जम्मू-कश्मीर संबंधी संविधान संशोधनों को लागू करने के निर्णय के खिलाफ अदालत जा सकती है एनसी, पीडीपी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like