न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

टीएमसी के छह सांसद व दो विधायक सिलचर एयरपोर्ट पर हिरासत में लिये गये

असम पहुंचे टीएमसी के प्रतिनिधिमंडल को पुलिस ने सिलचर एयरपोर्ट से बाहर निकलने से रोक दिया.

497

Silchar : असम पहुंचे टीएमसी के प्रतिनिधिमंडल को पुलिस ने सिलचर एयरपोर्ट से बाहर निकलने से रोक दिया. एएनआई के अनुसार टीएमसी के छह सांसदों और दो विधायकों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. बता दें कि प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) के ड्राफ्ट को लेकर वहां के हालात का जायजा लेने   असम  के सिल्चर पहुंचा था. बताया गया कि पुलिस ने उन्हें सिलचर एयरपोर्ट से बाहर निकलने की अनुमति नहीं दी.  प्रतिनिधिमंडल ने पुलिस पर धक्कामुक्की करने का आरोप लगाया है. असम में एनआरसी का दूसरा ड्राफ्ट आने के बाद से सियासी घमासान मचा हुआ है. ममता बनर्जी एनआरसी के ड्राफ्ट पर लगातार भाजपा पर हमलावर है. इस लिस्ट में असम के 40 लाख लोगों का नाम नहीं है.

ममता बनर्जी ने आरोप लगाया है कि भाजपा लोगों को बांटने की कोशिश कर रही है. इसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है. इससे देश में गृहयुद्ध की स्थिति बन जायेगी, खूनखराबा होगा. हम ऐसा नहीं होने देंगे. ममता ने कहा कि एनआरसी के बहाने भाजपा असम में वोट बैंक की राजनीति कर रही है. एनआरसी में जिनके नाम नहीं आये हैं उनमें सभी बांग्लादेशी नहीं है. इसमें बंगाली और बिहारी हैं

इसे भी पढ़ें-  सुप्रीम कोर्ट ने मीड डे मील का ऑनलाइन लिंक नहीं देने पर झारखंड पर 50 हजार का जुर्माना ठोका
Trade Friends

ममता की पार्टी में ही बगावत

एनआरसी मसले पर विपक्षी दलों को एकजुट करने की कोशिश में जुटी टीएमसी प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता की पार्टी में ही बगावत हो गयी है. खबरों के अनुसार असम में टीएमसी के दो नेताओं ने पार्टी छोड़ दी है.टीएमसी छोड़ने वाले नेता दिगंत सैकिया और प्रदीप पचोनी ने कहा कि ममता बनर्जी को एनआरसी की वास्तविक सच्चाई पता नहीं है. बिना किसी जानकारी के उन्होंने एनआरसी की निंदा की है.

इसे भी पढ़ें- लोकसभा में एससी-एसटी ऐक्ट पर नोकझोंक, कांगेस ने अध्यादेश लाने की मांग की

ममता बनर्जी ने टीएमसी के प्रतिनिधिमंडल को असम भेजा था

ममता बनर्जी ने टीएमसी के प्रतिनिधिमंडल को असम भेजा था, जिसे पुलिस द्वारा एयरपोर्ट से बाहर निकलने नहीं दिया गया. प्रतिनिधिमंडल का आरोप है कि उनके साथ असम पुलिस ने एयरपोर्ट पर धक्का-मुक्की की. जान लें कि 30 जुलाई को असम में एनआरसी का दूसरा ड्राफ्ट जारी किया गया. इसके तहत देा करोड़ 89 लाख 83 हजार 677 लोग वैध नागरिक ठहराये गये. 40 लाख लोग अवैध माने गये हैं.

इसे भी पढ़ेंःपूर्व CJI ने दी लिटिगेशन पॉलिसी बनाने की सलाह, मॉब लिंचिंग को बताया कानून की विफलता

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like