न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू: निर्दलीय पिता के खिलाफ उनके ही दो बेटे विरोधी प्रत्याशी के लिए कर रहे हैं चुनाव प्रचार

1,370

Palamu:  पलामू देश का शायद इकलौता ऐसा संसदीय क्षेत्र होगा, जहां दो पुत्रों को अपने पिता के प्रतिद्वंदी के लिए चुनाव प्रचार करना पड़ रहा है. जी हां,  हम बात कर रहे हैं पूर्व सांसद जोरावर राम की. जोरावर खुद तो निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं, लेकिन उनके दोनों पुत्र राकेश रोशन और राजेश रोशन महागठबंधन के उम्मीदवार घुरन राम के पक्ष में प्रचार अभियान चला रहे हैं.

दरअसल, जोरावर राम के एक पुत्र राकेश रोशन झामुमो में हैं, जबकि दूसरे पुत्र राजेश रोशन राजद में हैं. ऐसे में पिता को छोड़ महागठबंधन की ओर से राजद प्रत्याशी घुरन राम के पक्ष में चुनाव प्रचार करना इनकी नैतिक मजबूरी है.

इसे भी पढ़ेंः सेना के सात  रिटायर्ड अधिकारी भाजपा में आये, इनमें पांच लेफ्टिनेंट जनरल रैंक के अधिकारी  

Trade Friends

कुछ समय पहले तक राजद में थे जोरावर

दरअसल कुछ समय पहले तक जोरावर राम भी राजद में थे, लेकिन लोकसभा चुनाव में टिकट नहीं मिलने से खफा होकर उन्होंने पार्टी से इस्तीफा दे दिया और निर्दलीय कूद पड़े चुनावी अखाड़े में. अब उन्हें घर के भीतर ही विरोध का सामना करना पड़ रहा है.

76 वर्षीय जोरावर राम अपनी जीत का दावा करते हुए कहते हैं कि लोकतंत्र में सभी स्वतंत्र हैं. किसी पर अपना विचार या सिद्धांत थोपना लोकतांत्रिक प्रक्रिया के खिलाफ है. उनका कहना है कि उनके दोनों बेटे भले ही उनके साथ न हो, लेकिन संसदीय क्षेत्र की लाखों जनता उनके साथ है.

इसे भी पढ़ेंः प्रचार वार में जेएमएम पिछड़ा,  लोकसभा चुनाव नतीजा ही तय करेगा हेमंत का राजनीतिक भविष्य

1989 में जोरावर बने थे सांसद

गौरतलब है कि 1989 में जनता दल के टिकट पर श्री राम पलामू संसदीय क्षेत्र से चुनाव जीत चुके हैं. इस लोकसभा का कार्यकाल महज 15 महीने का ही रहा था, लेकिन इस छोटी अवधि में ही जन सरोकार से जुड़े कई कार्य कर श्री राम ने अपने इरादों का इजहार किया था. हालांकि श्री राम में अब वह दम खम दिखायी नहीं देता, जो 80-90 के दशक में दिखाई पड़ता था. नामांकन पत्र खरीदने के बाद अगले दिन जोरावर राम को एक पुराने मामले में न्यायालय में पेशी के दौरान न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था.

जेल में रहकर ही जोरावर राम ने अपना नामांकन दाखिल किया. कुछ दिन पहले जेल से जमानत पर निकलने के बाद श्री राम ने खुद अपना चुनाव प्रचार किया.

इसे भी पढ़ेंः राहुल गांधी ने रायबरेली में चौकीदार चोर है … के नारे लगवाये, कहा- नोटबंदी जैसी बेवकूफी किसी ने नहीं की

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like