न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

तकनीकी शिक्षा विभाग मानता है नहीं हो सकता है अवर सचिव अजय सिंह के बिना उनका काम, इसलिए 12 सालों से जमे हैं

2,770

Pravin kumar

Ranchi : अवर सचिव अजय कुमार सिंह एक ओर और पूरा तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग एक ओर. मजाल है कि कोई उनका कुछ बिगाड़ सके. वो चाहें तो सालों तक एक ही विभाग में जमे रह सकते हैं. एक या दो नहीं बल्कि 12-12 सालों से वो एक ही जगह विराजमान हैं. इतना ही नहीं उनका तबादला होने के बावजूद वो दूसरे विभाग में नहीं जाते.

उन्हें विरमित किया जाता है, लेकिन उसका भी उनपर कोई फर्क नहीं पड़ता है. वो अपनी जगह जमे रहते हैं. विभाग की सबसे महत्वपूर्ण जगह, योजना और बजट में वो डटे हुए हैं. विभाग के बाहुबलि इस शख्स का मामला विधानसभा में भी उठता है. लेकिन जनाब के बचाव में विभाग ने जो तर्क दिया है, वो भी कम चकित करने वाला नहीं है.

इसे भी पढ़ेंः ईएसआइ को बनाना था सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, स्पेशलिस्ट डॉक्टर तक नहीं हुए नियुक्त

Trade Friends

विभाग ने माना है 12 सालों से एक ही जगह हैं जमे, लेकिन…

विभाग में अवर सचिव अजय कुमार सिंह की महानता तब और जगजाहिर हो गयी. जब विभाग ने लिखित तौर पर विधानसभा में अजय सिंह के पक्ष में जवाब दिया. विधानसभा में गांडेय विधायक जयप्रकाश वर्मा ने सवाल किया कि क्या यह सच है कि अजय सिंह पिछले 12 सालों से एक ही विभाग में काम कर रहे हैं.

इसी दौरान क्या उन्हें दो बार प्रमोशन भी मिला है. पूछा गया कि क्या वो योजना और बजट काम देखते हैं इसलिए विभाग नहीं छोड़ना चाहते. जवाब चौंकाने वाला है. विभाग ने इन सारी बातों को स्वीकार किया है. विभाग ने माना कि हां अजय सिंह पिछले 12 सालों से यानी 29 जनवरी 2009 से एक ही जगह जमे हुए हैं.

इसे भी पढ़ेंः वित्त मंत्री सीतारमण पर राहुल गांधी का तंज, आयकर विभाग मतवाला हाथी बनकर दौड़ रहा है

हुआ था तबादला फिर भी अपने पद पर ही जमे हैं

2017 के जनवरी महीने में कार्मिक विभाग ने अजय कुमार सिंह का तबादला कल्याण विभाग में कर दिया. लेकिन उन्होंने कल्याण विभाग में आजतक योगदान नहीं दिया. विधानसभा में इस सवाल के जवाब में उनके बचाव के लिए विभाग का कहना है कि विभाग में प्रशाखा पदाधिकारी के 11 पद हैं.

लेकिन पांच प्रशाखा पदाधिकारी ही विभाग में काम कर रहे हैं. इस वजह से विभाग की तरफ से कार्मिक विभाग को अजय सिंह का तबादला मार्च 2017 तक रोकने के लिए पत्र भेजा गया. इस वजह से कार्मिक ने दिसंबर 2017 तक अजय सिंह के तबादले पर रोक लगा दी. इस बीच सवाल यह उठता है कि आखिर कैसे दिसंबर 2017 के बाद भी अजय सिंह अपने पद पर बने हुए हैं.

इसे भी पढ़ेंः पलामू : अनाथाश्रम को एक साल से नहीं मिला है अनुदान, बच्चों की परवरिश पर संकट

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like