न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

VBU ने आठ छात्रों पर दर्ज प्राथमिकी वापस ली, ABVP ने कहा- वीसी ने गलती स्वीकार की

थाने को लिखे गये पत्र में कहा गया कि छात्रों के भविष्य को देखते हुए यूनिवर्सिटी प्राथमिकी वापस ले रही है.

2,005

Ranchi : इधर रांची में विनोबा भावे यूनिवर्सिटी के कुलपति डाॅ रमेश शरण को बर्खास्त करने की मांग को लेकर एबीवीपी के प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से मुलाकात की और  उधर विश्वविद्यालय प्रशासन ने कोर्टा टीओपी को पत्र लिखकर छात्रों पर दर्ज प्राथमिकी वापस ले ली. यूनिवर्सिटी की ओर से आठ अगस्त को आठ छात्रों पर प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी.

थाने को लिखे गये पत्र में कहा गया कि छात्रों के भविष्य को देखते हुए यूनिवर्सिटी प्राथमिकी वापस ले रही है. यूनिवर्सिटी की ओर से 11 अगस्त को प्राथमिकी वापस ली गयी.

पांच अगस्त को यूनिवर्सिटी की ओर से दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया था जिसे बीच में ही रोक दिया गया था. ऐसे में कुछ छात्रों ने पूरी डिग्री देने की मांग पर यूनिवर्सिटी में हंगामा कर दिया. इसके बाद आठ अगस्त को यूनिवर्सिटी की ओर से चिह्नित आठ छात्रों पर प्राथमिकी दर्ज करायी गयी.

Trade Friends

इसे भी पढ़ें : झारखंड के इंस्पेक्टर परमेश्वर प्रसाद को ‘यूनियन होम मिनिस्टर्स मेडल फॉर एक्सीलेंस इन इन्वेस्टीगेशन’ मिला

‘वीसी ने स्वीकार की गलती’

विनोबा भावे यूनिवर्सिटी में पिछले कुछ दिनों से लगातार छात्रों की ओर से विरोध किया जा रहा था. एबीवीपी की ओर से लगातार इस मामले पर विरोध दर्शाया गया.

यूनिवर्सिटी की ओर से आठ छात्रों पर दर्ज प्राथमिकी वापस लेने पर प्रदेश अध्यक्ष प्रोफेसर नाथू गाड़ी ने कहा कि छात्रों के जायज मांगों के सामने वीसी ने गलती स्वीकार की. उन्होंने कहा कि तय समारोह को बीच में रोकना उचित नहीं है. अंतिम समय में एकाएक दीक्षांत समारोह के लिये तय परिधान बदलना, एक सोची समझी नीति थी जिसका छात्रों ने विरोध किया. 

इसे भी पढ़ें : धनबाद : सीमा पर तैनात जवानों के लिए कार्मेल की छात्राओं ने बनायी राखी

क्या है पूरा मामला

पांच अगस्त को विनोबा भावे यूनिवर्सिटी में दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया था. सिंडिकेट की ओर से पूर्व में पारंपरिक परिधान में दीक्षांत लेने का निर्णय लिया गया था लेकिन वीसी की ओर से काले कपड़ों में छात्रों को डिग्रियां दी गयीं.

वहीं एकाएक बीच में ही वीसी ने कार्यक्रम स्थगित कर दिया जिसके बाद छात्रों ने यूनिवर्सिटी परिसर में हंगामा किया. इस दौरान छात्रों पर लाठीचार्ज भी की गयी. छात्रों का कहना था कि समारोह में 6633 छात्रों में से मात्र 247 छात्रों को डिग्रियां दी गयीं.

इसे भी पढ़ें : युवा संवाद -5 : ABVP सदस्यों ने कहा, पूर्ण बहुमत की सरकार ने MoU किये पर जमीन पर नहीं उतार सकी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like