न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वोडाफोन-आइडिया, एयरटेल को 74,000 करोड़ का नुकसान, ग्राहकों पर पड़ेगा असर

कंपनी का तिमाही घाटा भारत के इतिहास में अब तक का सबसे खराब नुकसान है.

932

New Delhi: टेलीकॉम कंपनियां मुश्किलों से जूझ रही है. ऐसे में वोडाफोन आइडिया और भारती एयरटेल को बड़ा झटका लगा है. जो कि कॉरपोरेट इतिहास का सबसे बड़ा घाटा है.

इसकी वजह से ये कंपनियां बंद हो सकती है. ऐसे में करोड़ों ग्राहकों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है. करोड़ों ग्राहक इस घाटे की वजह से प्रभावित हो सकते हैं. 

समायोजित सकल आय (एजीआर) पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बकाया सांविधिक देनदारियों के लिए भारी खर्च के प्रावधान के चलते वोडाफोन आइडिया और भारती एयरटेल को चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में कुल मिलाकर करीब 74,000 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है.

इसे भी पढ़ें- क्या सीएम रघुवर दास बांग्लादेश में जारी पीएम मोदी के उस फर्जी पत्र की पुष्टि कर रहे हैं, जिसका खंडन विदेश मंत्रालय ने किया है

किस कंपनी को कितने का नुकसान

इसमें वोडाफोन आइडिया ने पुरानी सांविधिक देनदारियों के लिए दूसरी तिमाही में ऊंचे प्रावधान के चलते 50,921 करोड़ रुपये का घाटा दिखाया है. जबकि भारती एयरटेल ने इसी के चलते 23,045 करोड़ रुपये का नुकसान दिखाया है.

इससे पहले टाटा मोटर्स ने अक्टूबर-दिसंबर 2018 की तिमाही में 26,961 करोड़ रुपये का तिमाही नुकसान दिखाया था. यह उस समय तक किसी भारतीय कंपनी का सबसे बड़ा तिमाही घाटा था.

वोडाफोन आइडिया ने पुरानी सांविधिक देनदारी के लिए समीक्षावध में 25,680 करोड़ रुपये और भारती एयरटेल ने 28,450 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है.

वोडाफोन आइडिया ने कहा है कि वह कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल करने जा रही है. कंपनी का कहना है कि उसके कारोबार का चल पाना सरकार की ओर से मिलने वाली राहत और कानूनी मसलों के सकारात्मक समाधान पर निर्भर करेगा. एजीआर पर कोर्ट के फैसले के दूरसंचार उद्योग की वित्तीय स्थिति पर बड़े प्रभाव पड़ेंगे.

इसे भी पढ़ें- #Karnataka: अयोग्य विधायकों को टिकट देने को लेकर कांग्रेस ने भाजपा पर निशाना साधा

पूरे टेलीकॉम इंडस्ट्री में घबराट का माहौल

एजीआर पर कोर्ट के फैसले के बाद वोडाफोन-आइडिया, एयरटेल और अन्य दूरसंचार सेवा प्रदाताओं पर सरकार की कुल 1.4 लाख करोड़ रुपये की पुरानी सांविधिक देनदारी बनती है.

इसके चलते पूरे टेलीकॉम इंडस्ट्री में घबराट का माहौल है. रिलायंस जियो के बाजार में प्रवेश करने के बाद से टेलीकॉम इंडस्ट्री वित्तीय संकट का सामना कर रही हैं और उन पर अरबों डॉलर का कर्ज बकाया है.

उल्लेखनीय है कि पिछले महीने कोर्ट ने एजीआर की सरकार द्वारा तय परिभाषा को सही माना था. इसके तहत कंपनियों की टेलीकॉम सेवाओं के इतर कारोबार से प्राप्त आय को भी उनकी समायोजित सकल आय का हिस्सा मान लिया गया है. इसके चलते कंपनियों पर स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क और राजस्व में सरकार की हिस्सेदारी जैसी मदों में देनदारी अचानक बढ़ गयी है.

टेलीकॉम डिपार्टमेंट के नये आकलन के मुताबिक भारती एयरटेल पर सरकार का पुराना सांविधिक बकाया 62,187 करोड़ रुपये और वोडाफोन आइडिया पर 54,184 करोड़ रुपये बनता है. बीएसएनएल/एमटीएनएल पर भी ऐसी देनदारी का बोझ पड़ा है.

एयरटेल पर ऐसे बकाए में टाटा समूह की दूरसंचार कंपनियों और टेलीनॉर इंडिया का बकाया भी शामिल है क्यों कि उसने उनके स्पेक्ट्रम का अधिग्रहण कर रखा है. 

Related Posts

#EconomySlowdown : कुमार मंगलम बिड़ला की नजर में  देश की अर्थव्यवस्था रसातल के करीब पहुंच गयी

 बिड़ला मीडिया के एक कार्यक्रम में बोल रहे थे. इस क्रम में उन्होंने कहा कि व्यापार में राजकोषीय सूझ-बूझ जरूरी है

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like