न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुमका : 13 वर्ष पूर्व बनी सड़क जर्जर, नाराज ग्रामीणों ने कहा- मंत्री को गांव में घुसने नहीं देंगे

मंत्री लुईस मरांडी के विधानसभा क्षेत्र के हरिपुर, पोखरिया, मनका चौक के ग्रामीणों ने की सड़क और जर्जर पुलिया की मरम्मत की मांग

878

Ranchi : दुमका विधानसभा सीट से हेमंत सोरेन को शिकस्त देकर विधायक बनीं लुईस मरांडी से ग्रामीणों की नाराजगी बढ़ती जा रही है. लुईस को जब कैबिनेट मंत्री बनाया गया तो ग्रामीणों को लगा अब उनके इलाके का  होगा. लेकिन मसलिया प्रखंड के ग्रामीण इलाको की जर्जर सड़कें अब इलाके की पहचान ही बनती जा रही हैं.

जर्जर सड़क से परेशान ग्रामीणों ने अब चुनाव के समय वोट मांगने आने वाले नेताओं को गांव से खदेड़ने का मन बना लिया है. जर्जर सड़कों से तंग आकर प्रखंड के रांगा, दलाही पंचायत के ग्रामीण भी वोट बहिष्कार का निर्णय कर चुके हैं.

इसे भी पढ़ें : आइएएस शैलेश कुमार सिंह ने 19 जुलाई को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी का प्रभार लिया और 25 जुलाई को पद छोड़ना पड़ा

Trade Friends

तीन किलोमीटर सड़क जर्जर

सड़क जर्जर, लोगों ने कहा- मंत्री को गांव में घुसने नही देंगे
जर्जर सड़क से परेशान हैं लोग.

मसलिया प्रखंड के सुगापहाड़ी पंचायत के अंतर्गत झगड़िया मोड़ से हरिपुर मोड़ तक करीब तीन किलीमीटर सड़क कई वर्षो से जर्जर हो गयी है. इसके साथ-साथ कई पुलिया भी क्षतिग्रस्त हो गयी हैं.

ग्रामीणों का कहना यह सड़क करीब 13 वर्ष पूर्व बनी थी.जर्जर सड़क होने के कारण आये दिन दुर्घटना भी होती रहती है. सड़क से बोल्डर भी निकल गये हैं जिसपर सायकिल, मोटर सायकिल चलाना या पैदल चलना बहुत कठिन हो गया है.

इसे भी पढ़ें : सभापति रमा देवी पर आजम खान की विवादित टिप्पणी से लोकसभा में हंगामा, भाजपा ने  माफी की मांग की

सीएम जनसंवाद में भी गयी थी शिकायत

जनप्रतिनिधियों की उदासीनता से ग्रामीण बहुत नाराज हैं. ग्रामीणों के साथ-साथ स्कूली बच्चों को भी बहुत दिक्कत का सामना करना पड़ता है. समाधान के लिय ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री जन संवाद केंद्र में भी शिकायत दर्ज कराई जिसका रजिस्ट्रेशन ओएल/डीयूएम/19-508 है. इतना ही नही जर्जर सड़क से हो रही परेशानी को लेकर कल्याण मंत्री लुईस मरांडी के नाम लिखित आवेदन दिया.

ग्रामीणों की मांग है कि जल्द ही सड़क और पुलिया की मरम्मत नही की जाती है तो नेताओं को गांव में घुसने नही दिया जायेगा और मजबूरन वोट का बहिष्कार करना पड़ेगा. ग्रामीणों का कहना है कि हम ग्रामीण विकास के नाम वोट देते हैं, इसलिए विकास होना चाहिए.

बैठक में मिता मुर्मू, छमी हेम्ब्रोम, लुखी हांसदा, रसली मरांडी, प्रेम मुर्मू, हेमंत मुर्मू, रमनी हेम्ब्रोम, मायना सोरेन, पकुमुनी हेम्ब्रोम, सूर्यमुनी मुर्मू, सिमोन सोरेन, सुखदेव पवरिया, प्रेम बास्की, जोसफ बेसरा, सुरेन्द्र हेम्ब्रोम, मंगल टुडू, सुनील मरांडी, अमर हेम्ब्रोम, कार्तिक मरांडी, विजय हांसदा, लुखिन पवारीय के साथ काफी संख्या में महिला और पुरुष उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : हेमंत सोरेन का आरोप : जिस विभाग के मंत्री हैं CM रघुवर दास, उस JBVNL के एमडी राहुल पुरवार कर रहे हैं भ्रष्टाचार

SGJ Jewellers

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like