न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Crime: अवैध संबंध को लेकर पत्नी ने करायी थी पति रुस्तम अंसारी की हत्या

420

Ranchi: नगड़ी थाना क्षेत्र के एड़चोरो गांव के रहनेवाले रुस्तम अंसारी की हत्या उसकी पत्नी ने रुस्तम के बहनोई एकामुल अंसारी और उसके भाई ऐनुल अंसारी के साथ मिल कर कर दी थी.

रुस्तम अंसारी की पत्नी का रुस्तम के बहनोई एकामुल अंसारी के साथ अवैध संबंध था. जिस वजह से पत्नी ने रुस्तम की हत्या करवा दी.

JMM

देखें वीडियो-

23 अक्टूबर से लापता रुस्तम अंसारी का जला हुआ शव 27 अक्टूबर को एड़चोरो गांव के फुटबॉल मैदान के समीप स्थित झोपड़ी से मिला था. रुस्तम आपराधिक प्रवृत्ति का था. उसके खिलाफ डकैती, लूट, चोरी सहित कई मामले नगड़ी, लोहरदगा, ओरमांझी सहित अलग-अलग थानों में दर्ज हैं. वह कई बार जेल भी जा चुका था.

इसे भी पढ़ें – #Jamshedpur: BJP की नई सदस्या पूर्व IAS सुचित्रा सिन्हा के कोल्हान से चुनाव लड़ने की अटकलें

Bharat Electronics 10 Dec 2019

कैसे हुआ खुलासा

अनुसंधान के क्रम में पुलिस ने मृतक की पत्नी से पूछताछ की तो उसने बताया कि रुस्तम के बहनोई एकामुल अंसारी और उनके भाई ऐनुल अंसारी के साथ मिल कर घर में ही रुस्तम अंसारी को नशीला पदार्थ खिला कर बेहोश कर दिया था. उसके बाद उसी हालत में गला दबा कर हत्या कर दी गयी.

गांव के बाहरवाले घर में ले जाकर किरासन तेल छिड़क कर रुस्तम अंसारी के शव को जला दिया. शव को जलाने के बाद घर का दरवाजा बंद कर दिया और फरार हो गये.

मृतक की पत्नी ने पुलिस के द्वारा की गयी पूछताछ में स्वीकार किया कि रुस्तम अंसारी के बहनोई के साथ उसका अवैध संबंध था, जिस वजह से हत्या की घटना को अंजाम दिया गया.

थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करायी गयी थी

रुस्तम बीते 23 अक्टूबर को ओरमांझी के एक युवक से बातचीत के बाद घर से निकला था. उसके बाद वह नहीं लौटा. पुलिस को उसके मोबाइल की सीडीआर से पता चला कि ओरमांझी के किसी युवक से उसने बातचीत की थी. दूसरे दिन नहीं लौटने पर पत्नी सलमा खातून व अन्य परिजनों ने उसकी खोजबीन शुरू की, लेकिन वह नहीं मिला. इसके बाद 26 अक्टूबर को नगड़ी थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करायी गयी थी.

इसे भी पढ़ें – आरोपः गलत को गलत कहने वाले #RajyaSabha MP महेश पोद्दार बदल रहे अपना स्टैंड

गैस सिलिंडर से मिली लाश की जानकारी

ग्रामीणों ने एड़चोरो कब्रिस्तान के निकट एक कुएं में एक छोटा सिलिंडर डूबा हुआ देखा. कुंआ उस झोपड़ी से करीब 100 मीटर की दूरी पर है. सिलिंडर मिलने पर लोगों को लगा कि रुस्तम का शव कुएं में होगा. इससे लोगों ने पूरे कुएं को छान मारा, लेकिन शव नहीं मिला.

कुछ देर के बाद परिजन व ग्रामीण फुटबॉल मैदान के समीप की झोपड़ी पर पहुंचे, तो वहां से काफी बदबू आ रही थी.लोग कमरे तक पहुंचे, तो देखा कि रुस्तम का काफी जला हुआ शव जकड़ा हुआ पड़ा था.

मामले की सूचना पर नगड़ी थानेदार संतोष पांडेय सहित अन्य अधिकारी पहुंचे और घटना की छानबीन की. हालांकि, उस समय अपराधियों का कोई सुराग हाथ नहीं लगा था. मौके पर फॉरेंसिक व डॉग स्क्वॉड की टीम भी पहुंची थी. फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट ने मौके से फिंगर प्रिंट सैंपल भी जमा किये थे.

शव उठाने नहीं दे रहे थे ग्रामीण

बता दें कि रुस्तम की हत्या से आक्रोशित ग्रामीण शव नहीं उठाने दे रहे थे. लोगों ने पुलिस प्रशासन पर नाराजगी जताते हुए काफी हंगामा शुरू कर दिया था. हंगामा बढ़ता देख मामले की सूचना मुख्यालय को दी गयी.

इसके बाद मौके पर रांची के ग्रामीण एसपी ऋषभ कुमार झा और डीएसपी हरिश्चंद्र सिंह पहुंचे और ग्रामीणों के साथ बात की. बाद में स्थानीय बुद्धिजीवियों की पहल और प्रशासन के आश्वासन के बाद ग्रामीण माने और शव उठाने दिया था.

इसके बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए रिम्स भेजा और पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया था.

इसे भी पढ़ें – पं. दीनदयाल ने कहा थाः शीर्ष नेता गलत प्रत्याशी देते हैं, तो जनता-कार्यकर्ता सबक सिखायें

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like