न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुष्कर्म के बाद महिला की हत्या, हर महीने 100 से ज्यादा रेप

2019 : राज्य में मई महीने तक 695 महिलाएं हुईं दुष्कर्म की शिकार

929

Giridih : जिले के देवरी थाना क्षेत्र में महिला के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या का मामला सामने आया है. सोमवार देर रात घटना को अंजाम दिया गया.

घटना से ग्रामीणों में बेहद आक्रोश है. वहीं घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. फिलहाल पुलिस पूरी घटना की जांच में जुटी है.

JMM

इसे भी पढ़ें- व्यवसायियों का क्या टूट रहा मनोबल? देश में कारोबारी धारणा गिरकर तीन साल के निचले स्तर पर: सर्वे

गांव के युवक पर ही लगा दुष्कर्म का आरोप

मृतका के पति ने गांव के ही प्रकाश राय नाम के युवक पर दुष्कर्म व हत्या का आरोप लगाया है. मृतका के पति ने देवरी थाना पुलिस को बताया कि सोमवार रात उसकी पत्नी घर पर अकेले थी.

वह एक श्राद्ध कार्यक्रम में शामिल होने के बाद देर रात 11 बजे घर लौटी थी. इसी दौरान प्रकाश राय पहले से ही घात लगाए बैठा था. जैसे ही उसकी पत्नी घर लौटी तो आरोपी युवक भी जबरन उसके साथ घर में घुस गया. जिसके बाद उसने उसकी पत्नी के साथ दुष्कर्म किया और फिर साक्ष्य छुपाने की नियत से गला दबाकर हत्या कर दी.

Bharat Electronics 10 Dec 2019

इसे भी पढ़ेंःना POTA खराब था, ना NIA खराब है, खराब तो इसके इस्तेमाल करने वाले होते हैं

वर्ष 2019 में झारखंड में हुई 695 दुष्कर्म की घटनाएं

झारखंड पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक साल 2019 में मई महीने तक 695 दुष्कर्म की घटनाएं घटी हैं. जिसमें जनवरी में 106, फरवरी में 120, मार्च में 114 अप्रैल में 176 और मई में 179 दुष्कर्म की घटनाएं घटित हुई.

इन पांच महिनों में सबसे अधिक दुष्कर्म की घटनाएं मई महीने में हुई. जानकारी के मुताबिक नाबालिग बच्चियां इस घटना की सबसे ज्यादा शिकार बनीं. वहीं छेड़खानी,अपहरण और दुष्कर्म व हत्या जैसी घटनाओं की वजह से महिलाएं में हैं.

इसे भी पढ़ेंःकार्यकर्ताओं को बीजेपी दे रही आडवाणी का उदाहरण, पार्टी विचारधारा के विपरीत जाने पर जा सकता है पद

आखिर कब तक डर के साये में रहेंगी आधी आबादी

गौरतलब है कि 2019 में मई महीने तक 695 दुष्कर्म की घटनाएं झारखंड में हुई हैं. इन पांच महिनों में आंकड़ा इतना ज्यादा है फिर भी इस पर रोक लगाने के लिए कुछ खास ध्यान नहीं दिया जा रहा है.

अगर आंकड़ों पर गौर किया जाए तो एक महीने में लगभग 100 से भी ज्यादा महिलाएं दुष्कर्म की शिकार बनीं. अगर जल्द ही इस पर कुछ कड़ी कार्रवाई नहीं की गयी तो यह आंकड़ा बढ़ भी सकता है.

आखिर कब तक महिलाएं, बच्चियां, युवतियां इस घिनौने कृत की शिकार बनती रहेंगी. कब वह खुलकर सांस ले पाएंगी. और कब देश में कुछ ऐसे कड़े कानून बनेंगे जब इस तरह की घटनाओं को अंजाम देने वालों के मन में खौफ होगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like